मोदी के राजनीतिक करियर का सबसे बड़ा दांव है GST

author image
Updated on 1 Jul, 2017 at 11:02 am

Advertisement

GST यानी गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स को राष्ट्रीय जनतांत्रिक सरकार के अगुआ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के करियर का सबसे बड़ा दांव माना जा रहा है। लोकसभा चुनाव होने में अब 20 महीने से भी कम का वक्त बचा है, ऐसे में कहा जा सकता है कि GST के कामयाब होने की स्थिति में पीएम मोदी की छवि और निखरेगी।

GST की सफलता या विफलता पर लोकसभा चुनावों के परिणाम निर्भर होंगे, जो वर्ष 2019 में होने जा रहे हैं। GST सफल हुआ तो एक सर्वमान्य नेता के रूप में प्रधानमंत्री मोदी की छवि और मजबूत होगी और अगर इसके नतीजे आशानुरूप नहीं हुए तो सरकार को इसकी कीमत चुकानी पड़ सकती है। GST की खास बात यह है कि नोटबंदी की तरह ही प्रधानमंत्री मोदी ने इसकी जिम्मेदारी अपने सिर ली है। सफलता मिले या विफलता, दोनों ही स्थिति में जिम्मेदार प्रधानमंत्री खुद होंगे।


Advertisement

नोटबंदी की सफलता के पीछे प्रधानमंत्री मोदी का हाथ है। तमाम असुविधा के बावजूद आम लोगों में एक राय बनी रही कि देश के हित में नोटबंदी एक जरूरी कदम था। यह प्रधानमंत्री मोदी की विश्वसनीयता ही थी कि लोगों में धैर्य बना रहा और नोटबंदी जैसे बड़े झांझावत से देश बाहर निकल कर आया।

नोटबंदी के साहसिक फैसले से जहां कालाधन को जमा रखने वाले लोग निशाने पर आए, वहीं सरकार की यह छवि बनी कि यह ब्लैकमनी के खिलाफ काम कर रही है। नोटबंदी के बाद देश में विकास दर थम सी गई है।

माना जा रहा है कि GST से देश की अर्थव्यवस्था को एक रफ्तार मिलेगी और इससे पीएम मोदी की वर्ष 2019 में राह भी आसान होगी।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement