ज़माना बदल रहा है! दुल्हे ने छुए दुल्हन के पैर, वजह जान लोग कर रहे तारीफ़

Updated on 23 Nov, 2018 at 6:26 pm

Advertisement

हमारे देश में पति को भले ही हमसफ़र कहा जाता है, लेकिन अभी भी पति-पत्नी को बराबरी का दर्जा कर कहीं नहीं दिया जाता। पति को हमेशा पत्नी से ऊपर ही माना जाता है, तभी तो शादी में भी कई ऐसी रस्में है जिसमें पत्नी को ही झुकना पड़ता है, मगर बदलते वक्त के साथ कुछ लोगों की सोच बदली है और वो पति-पत्नी के रिश्ते को वाकई में बराबरी पर लाने की कोशिश कर रहे हैं। एक पति ने शादी में अपनी पत्नी के पैर छूकर लोगों के सामने एक मिसाल कायम कर दी है।

 

 


Advertisement

मॉडल दीपा खोसला की शादी हर भारतीय के लिए एक मिसाल बन गई है। वैसे तो हमारे देश की शादियों में दुनिया भर के रीति-रिवाज हैं। आज भी शादी में उन पुरानी रस्मों को निभाया जाता है और शादी की कोई भी रस्म ऐसी नहीं है जिसमें पति-पत्नी को बराबरी का माना जाए, हमेशा पति को श्रेष्ठ बताया जाता है, लेकिन मॉर्डन कपल दीपा और उनके बॉयफ्रेंड ओलेग बुलर ने इस पुरानी अवधारणा को बदलकर लोगों को दिखा दिया असल में पति-पत्नी का दर्जा बराबरी का ही होता है।

 

दोनों की शादी के दौरान एक रस्म में दुल्हन को दुल्हे के पैर छूने थे, जब कपल को ये बात पता चली तो उन्होंने सोचा सिर्फ़ लड़की ही क्यों पैर छुए। फिर दोनों ने डिसाइड किया को वो दोनों एक-दूसरे के पैर छूकर एक-दूसरे को सम्मान देंगे।

 

दोनों ने आपस में तो तय कर लिया, लेकिन जब दीपा की मां को यह बात पता चली तो वो हैरान रह गईं और इसके लिए राज़ी नहीं हुईं क्योंकि उन्हें डर था ऐसा करने पर लोग हंसी उड़ाएंगे, मगर दीपा और ओलेग को इस बात से कोई फ़र्क नहीं पड़ा।

 

शादी के दिन जब दीपा ओलेग के पैर छूने के लिए झुकीं तो उसके बाद ओलेग ने भी दीपा के पैर छुए और इस तरह से दोनों ने बराबरी के साथ अपने रिश्ते की शुरुआत की। ओलेग की इस नई पहल ने वाकई हमारे समाज के पतियों के सामने एक नई मिसाल कायम कर दी है।

 

 

सच तो यही है पति-पत्नी दोनों को एक-दूसरे की परवाह और सम्मान करना चाहिए, लेकिन हमारे समाज में ये पाठ सिर्फ़ लड़कियों को ही सिखाया जाता है। थोड़ा ही सही जमाना बदल तो रहा है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement