इस टैक्सी में सवारी पढ़ सकते हैं कॉमिक्स, स्मार्टफोन्स से दूरी के लिए ड्राइवर की पहल

Updated on 23 May, 2018 at 9:44 am

Advertisement

लोग दिन-रात अपने कामकाज में लगे होते हैं, लेकिन सामाजिक जिम्मेदारी भी कुछ चीज होती है। आज यही पाठ कोलकाता का एक टैक्सी ड्राइवर पढ़ाता नजर आ रहा है। जरूरी नहीं कि हम कितने सक्षम हैं, अगर इरादे नेक हों तो दिक्कत नहीं आती। छोटा कदम भी बड़ा बदलाव ला सकता है और इसे समझने की जरूरत है। टैक्सी चलाते हुए लोगों की प्रेरणा बन चुके धनंजय चक्रवर्ती की कहानी कुछ ऐसी है कि आपको भी ऊर्जा से भर देगी।

 

पेशे से ड्राइवर धनंजय 5 साल पहले सुर्ख़ियों में तब आए थे जब उन्होंने पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए अपनी टैक्सी की छत पर घास उगानी शुरू की थी। उनकी इस पहल को खूब सराहना मिली और वह बेहद लोकप्रिय हो गए।

सोशल मीडिया पर उन्हें ‘बापी ग्रीन टैक्सी’ के नाम से जानते हैं।

 

 

इस बार वह पर्यावरण संरक्षा के साथ ही एक नया संदेश दे रहे हैं। उन्होंने अपनी टैक्सी में बैठने वाले वाली सवारियों के लिए कॉमिक्स रखनी शुरू की है। स्मार्टफोन की बुरी लत की चपेट में आज बच्चे भी आ गए हैं और इसे भांपकर ही धनंजय ने ये पहल की है। उनकी टैक्सी में बच्चों व बड़ों के लिए कॉमिक्स और मैगज़ीन्स रहते हैं। सवारी इन्हें अपनी पसंद के अनुसार पढ़ सकते हैं।

 

 


Advertisement

धनंजय चक्रवर्ती कहते हैंः

“एक बार मैंने एक टैक्सी सवार बच्चे से कॉमिक्स कैरेक्टर के बारे में पूछा तो उसने बताया कि उसे ऐसा कुछ मालूम नहीं है, जबकि एक दौर था जब बच्चों में कॉमिक्स को लेकर अलग ही क्रेज रहता था। आज स्मार्टफोन ने सब कुछ बदल कर रख दिया है। तभी मेरे दिमाग में ख्याल आया कि इस दिशा में कुछ ऐसा करना चाहिए।”

 

 

धनंजय अपने यात्रियों को एक अवसर देते हैं कि वे स्मार्टफोन की लत छोड़ किताबों को अपना सकते हैं। बच्चों को भी किताब पढ़ने की आदत डलवानी चाहिए। उनकी पहल से लोग बड़े ही उत्सुकता से पढ़ते ही नहीं, बल्कि उनसे किताबें खरीद भी लेते हैं। ये अलग बात है कि धनंजय किताबों को महज आधे दाम में यात्रियों को दे दिया करते हैं।

 

कोलकाता में पीली टैक्सी के अनुभव को बेहद ख़ास बनाने वाले धनंजय को सलाम!

 

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement