150 किलो वजनी मछली को मारकर खा गए गांव वाले, होगी कार्रवाई

Updated on 26 Jul, 2017 at 1:13 pm

Advertisement

पहाड़ की व्हेल कही जानेवाली ‘गूंज’ मछली की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, जो गांव वालों के लिए मुसीबत बन गई है। बताया जा रहा है कि गांव वाले इस मछली को मारकर खा गए। यह मछली विलुप्त हो रही प्रजाति से संबद्ध है और संरक्षित भी।

तस्वीर में कुछ ग्रामीण एक बड़ी मछली को बांस में बांध कंधे पर लादकर ले जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि गांववालों ने मछली का शिकार किया और उसे आपस में बांट कर खा गए। मामले में अल्मोड़ा के वन संरक्षक के निर्देश पर डीएफओ ने पूरे गांव को दोषी माना है। ग्रामीणों पर वन्यजीव ऐक्ट के तहत कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है।


Advertisement

अल्मोड़ा के सल्ट ब्लॉक के इनलो गांव के लोगों ने गूंज मछली पकड़ी थी, जो करीब 150 किलो वजनी थी। यह मछली उत्तरी हिमालय के उत्तराखंड और नेपाल की पर्वतीय नदियों में दुर्लभ रूप में पाई जाती है। लोग इसका शिकार करते हैं जिससे ये विलुप्तप्राय हो चली है।

तस्वीर वायरल होने से गांव वाले मुश्किल में हैं। उन पर कार्रवाई कि तलवार लटक रही है। करीब छह फुट लंबी व डेढ सौ किलो तक वजन वाली पहाड़ी वेल पंचेश्वर स्थित काली नदी, शारदा व रामगंगा क्षेत्र में पाई जाती है। यह एक शिकारी मछली है, इसलिए इसे व्हेल भी कहा जाता है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement