लड़की करने जा रही थी आत्महत्या, फिर Google ने जो किया वो वाकई काबिलेतारिफ है

author image
Updated on 11 Jan, 2017 at 8:41 pm

Advertisement

प्यार में धोखा खाने के बाद अंदर से टूट चुकी 24 साल की एक लड़की ने अपनी जिंदगी को खत्म करने का फैसला कर लिया। लड़की जिस लड़के से प्यार करती थी, उस शख़्स की सरकारी नौकरी लगने के बाद, उसने घरवालों के दबाव में लड़की को छोड़ दिया।

लड़के के इस रवैये से बुरी तरह आहत हो चुकी लड़की ने सहारनपुर से महज 4 किलोमीटर की दूरी पर यमुना कैनाल में कूदकर अपनी ज़िन्दगी खत्म करने का फैसला कर लिया। वह इतनी परेशान थी कि मौत के अलावा उसे कोई और रास्ता नहीं सूझ रहा था।

girl

युवती अंबाला रोड पर नहर किनारे पहुंच चुकी थी। उसका इरादा कूदकर जान देने का था, लेकिन पानी के खतरनाक बहाव को देखते हुए लड़की ने तड़प-तड़पकर और दर्दनाक मौत से बेहतर आसान तरीकों को खोजने का मन बनाया।  उसके बाद लड़की ने गूगल पर मौत के आसान तरीकों को सर्च किया। सर्च के परिणाम में आत्महत्या के तरीकों की बजाय, काउंसलिंग हेल्पलाइन नंबर की जानकारी आने लगी।


Advertisement

आपको बता दें कि दरअसल जब भी कोई ‘आत्महत्या कैसे करें’ जैसे सवालों के बारे में गूगल पर जाकर सर्च करता है, तो गूगल इस सर्च के परिणाम दिखाने के बजाय कई और साइट्स और नंबरों की सुविधा उपलब्ध करा देता है, जिसमें काउंसलिंग हेल्पलाइन के नंबर भी उपलब्ध होते हैं।

बिना कुछ ज्यादा सोचे, लड़की को मोबाइल स्क्रीन पर जो नंबर दिखा उसने ऐसे ही एक नंबर पर कॉल कर लिया।  सहारनपुर के पुलिस उप महानिरीक्षक को यह कॉल लगा और तब लड़की ने अपने साथ हुए धोखे के बारे में बताया। मामले की संजीदगी को समझते हुए फोन पर मौजूद DIG जितेन्द्र कुमार ने लड़की को ऑफिस आकर मिलने के लिए बुलाया।

DIG जितेन्द्र कुमार साही ने बतायाः



“3 जनवरी को उन्हें पब्लिक नंबर से एक लड़की का फोन आया। वह बहुत ज़्यादा परेशान लग रही थी और अपनी ज़िन्दगी खत्म करना चाहती थी। इस लड़की ने गूगल पर ये भी सर्च किया था कि अपनी ज़िन्दगी को कैसे खत्म किया जाए। सर्च के नतीजों में इस लड़की को मेरा नंबर भी मिला और उसने मेरे नंबर पर फोन मिला दिया। मैंने उसकी बातें सुनी और उसकी परेशानी को ठीक से समझने के लिए मैंने इस लड़की को अपने ऑफिस बुला लिया।”

लड़की ने ऑफिस पहुंचकर अपनी आपबीती सुनाई। वह बस अपनी जिंदगी को खत्म कर देना चाहती थी।

girl

डीआइजी शाही ने बताया कि लड़की की मनोदशा को देखते हुए उसे वुमन सेल की ऑफिसर के पास काउंसलिंग के लिए भेज दिया गया। काउंसलिंग सेशन में लड़की को हिम्मत से काम लेने को कहा गया। ख़ास बात यह रही कि इस काउंसलिंग में लड़के को भी बुलाया गया और दोनों को एक अच्छे भविष्य के लिए बेहतर विकल्प की खोज करने को कहा गया।

वाकई, दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने अपनी बेहतरीन सर्चिंग टेक्नोलॉजी की बदौलत एक लड़की की जान बचाकर काबिले तारिफ काम किया है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement