#MeToo: Google ने बीते दो सालों में यौन शोषण के आरोप में 48 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला है

6:24 pm 27 Oct, 2018

Advertisement

#MeToo बॉलीवुड और मीडिया के गलियारे निकलकर गूगल के ऑफिस तक भी जा पहुंचा है। हाल ही में गूगल के एक अधिकारी पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा जिसके बाद कहा गया उस शख्स को गूगल ने 90 करोड़ डॉलर का एक्जिट पैकेज देकर कंपनी से बाहर कर दिया है। हालांकि कंपनी इस बात से इनकार कर रही है।

 

 


Advertisement

न्यू यॉर्क टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, यौन उत्पीड़न के आरोप में गूगल ने अपने 3 बड़े अधिकारियों को निकाल दिया है। इनमें एंडी रूबिन का नाम भी शामिल है, बाकि दो लोगों के नाम की जानकारी नहीं मिल पाई है। एक महिला ने आरोप लगाया था रूबिन ने 2013 में उन्हें होटल के कमरे में बुलाया और उनके साथ गलत व्यवहार किया। अखबार में छपी रिपोर्ट में कहा गया है गूगल ने रूबिन को 90 करोड़ डॉलर का एक्जिट पैकेज दिया जबकि यौन उत्पीड़न के आरोप में निकाले गए अन्य लोगों को यह पैकेज नहीं दिया गया। इस मामले में गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई का कहना है, “जिन लोगों को यौन उत्पीड़न के आरोप में निकाला गया उनमें से किसी को भी एक्जिट पैकेज नहीं दिया गया है। किसी एक और छोटी से छोटी शिकायत पर भी गूगल एक्शन लेने के लिए प्रतिबद्द है।”

 

आपको बता दें गूगल ने 2 साल के अंदर यौन शोषण के आरोप में 48 कर्मचारियों को नौकरी से निकाला है जिसमें 13 सीनियर ऑफिसर भी शामिल हैं। गूगल ने अपने कर्मचारियों को भेजे ई मेल में बताया है यौन उत्पीड़न के मामलों में कंपनी सख्त एक्शन लेती है। गूगल का कहना है ऐसे किसी भी मामले की वो बारिकी से जांच करता है और अपने कर्मचारियों के लिए सुरक्षित माहौल बनाने की पूरी कोशिश करता है।

 

 

उधर एंडी रूबिन के प्रवक्ता का कहना है उन पर लगे यौन शोषण के आरोप गलत है और रूबिन ने अपनी मर्ज़ी से कंपनी छोड़ी है, क्योंकि अपनी नई कंपनी बनाना चाहते हैं। अब सच क्या है ये तो पता नहीं, लेकिन गूगल जैसी बड़ी कंपनी में भी यौन शोषण की घटना होना बेहद शर्मनाक है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement