अब NCERT किताबों के जरिए बच्चों को बताएगा ‘बैड टच और गुड टच’

Updated on 18 Sep, 2017 at 11:14 pm

Advertisement

हम तब तक सुधरना नहीं चाहते जब तक कि पानी सिर के ऊपर से न बहने लगे। सुधारों की बातें। तमाम दुर्घटनाओं के बाद केवल बातें ही होती हैं। लापरवाही की हद ये है कि लोगों के जीवन का कोई मूल्य ही नहीं रहा। इधर, दिल्ली और आसपास हो रहे स्कूलों की घटनाओं ने देश को हिलाकर रख दिया है। स्कूली बच्चों की सुरक्षा को लेकर बहस का सिलसिला अनवरत जारी है।

इसी बीच, NCERT भी हरकत में आ गया है। अब बच्चों किताबों में फोटो और पाठ के माध्यम से ‘गुड टच और बैड टच’ बताया जाएगा। गुरुग्राम के रायन स्कूल और दिल्ली के एक स्कूल में चपरासी द्वारा पांच साल की बच्ची से दुष्कर्म की घटना के बाद NCERT नई पहल करने जा रहा है।

NCERT ने फैसला लिया है कि अब किताबों के माध्यम से बच्चों को बैड टच और गुड टच के बारे में बताया जाए, ताकि बच्चों को हिंसा से बचाया जा सके। NCERT के निदेशक ऋषिकेश श्रीवास्तव ने कहा है कि सिलेबस में बदलाव नए सत्र से देखा जाएगा। इस पहल के तहत NCERT की सभी किताबों में कवर पेज के पीछे बैड टच और गुड टच के बारे में जानकारी रहेगी।



‘बैड टच और गुड टच’ से जुड़े फोटो भी छापे जाएंगे और आसान भाषा में लिखा भी जाएगा, जिससे छोटे बच्चे भी आसानी से समझ सकें। इसके साथ ही ऐसा होने पर कहां संपर्क करना है, इस बावत कुछ हेल्पलाइन और काउंसलर्स के नम्बर भी छापे जाएंगे।

किताबों में पोक्सो कानून और बाल आयोग के बारे में भी जानकारी दी जाएगी, जिसको लेकर तैयारियां शुरु हो गई है। यही वजह है कि आने वाले सत्र में बहुत सारे ऐसे बदलाव NCERT की किताबों में देखे जा सकते हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement