36 साल बाद कश्मीर में दोबारा स्थापित की गई मां भद्रकाली की मूर्ति, कहानी जान आप भी होंगे हैरान

author image
Updated on 20 Mar, 2018 at 4:57 pm

Advertisement

नवरात्रि का पावन महीना चल रहा है। मंदिरों के कपाटों के बाहर श्रद्धालुओं की भीड़ लगी हुई है। देशभर में नवरात्रि की धूम है। इसी बीच एक खबर ऐसी आई है, जिससे श्रद्धालु खुशी से झूम उठेंगे।

 

कश्मीर के हंदवाड़ा जिले के एक प्राचीन मंदिर से चोरी हुई मां भद्रकाली की मूर्ति को 36 साल बाद मंदिर में पुर्नस्थापित किया गया है। इस अवसर पर वहां माता के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी।

 

 

बता दें कि माता की यह प्रतिमा 1981 में मन्दिर से चोरी हो गई थी, जिसे 1983 में खोज निकाला गया था। इसके बाद साल 1990 में मां भद्रकाली के परम भक्त कहे जाने वाले भूषण लाल पंडित माता की प्रतिमा को जम्मू लेकर आ गए और तब से लेकर अब तक उन्होंने ही मां की पूजा-अर्चना की।

 

भूषण लाल पंडित चाहते थे कि माता की इस मूर्ति को मंदिर में पुनर्स्थापित कर दिया जाए। उन्होंने साल 2017 में सेना की 7 सेक्टर राष्ट्रीय राइफल्स के ब्रिगेडियर डीआर राय से मुलाकात कर मूर्ति को दोबारा भद्रकाली मंदिर में प्रतिष्ठापित करने का आग्रह किया। इसके बाद ब्रिगेडियर ने भी आश्वान दिया कि नवरात्रि पर मूर्ति की स्थापना की जाएगी और 18 मार्च 2018 को नवरात्रि के पहले दिन ही इस मूर्ति को पुनर्स्थापित कर दिया गया।


Advertisement

 

 

भद्रकाली की मूर्ति को मंदिर में फिर से स्थापित करने में सेना की 21 राष्ट्रीय राइफल्स रेजीमेंट के जवानों ने मदद की। इस खास मौके पर सेना के जीओसी मेजर जनरल एके सिंह समेत राष्ट्रीय राइफल्स रेजीमेंट के तमाम जवान भी मौजूद रहे।

 

यह मूर्ति पहले एक बार चोरी हो चुकी है, लिहाजा अब मंदिर और मूर्ति की सुरक्षा के लिए सेना के जवान तैनात रहेंगे। करीब 36 वर्ष बाद सवा सौ साल पुरानी मां की मूर्ति को उचित स्थान पर विराजमान किया गया है।

 

 

इस ऐतिहासिक मंदिर से एक रोचक कहानी भी जुड़ी है। बताया जाता है कि 1891 में हंदवाड़ा के निवासी सरवा वायू को सपने में माता ने दर्शन देकर बताया था कि खान्यार के पास एक गुफा में माता की मूर्ति है। इसके बाद वह उस जगह गए। वहां सच में उन्हें माता की प्रतिमा मिली और उन्होंने उस मूर्ति को वहां से निकालकर हंदवाड़ा में मन्दिर बनवाकर स्थापित करवाई।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement