Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

इस लड़की ने बनाई जादुई घड़ी, जीत लिया डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम इग्नाइट अवार्ड

Published on 15 October, 2016 at 2:45 pm By

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम नई पीढ़ी के प्रेरणास्रोत हैं। उनसे प्रेरणा लेकर चंडीगढ़ की नवजोत कौर ने एक जादुई घड़ी का न केवल निर्माण किया, बल्कि डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम इग्नाइट अवार्ड-2015 भी जीत लिया।


Advertisement

नवजोत के द्वारा बनाई गई यह घड़ी कोई आम घड़ी नहीं है, बल्कि इसमें एक जीवन रक्षक सिस्टम लगाया गया है। इससे बीमार व्यक्ति को पता चल जाता है कि उसे दवा कब लेनी है।

इतना ही नहीं, यह घड़ी इतनी आधुनिक है कि किसी मरीज को दिल का दौड़ा पड़ने की स्थिति में या तबियक बिगड़ने की हालत में पहले ही पता चल जाता है। इस जादुई घड़ी की खासियत यह भी है कि इसमें जीपीएस जोड़ा गया है, ताकि अस्पताल को मरीज के बारे में पता चल सके।

नवजोत कहती हैं कि अगर किसी मरीज को दवा लेने का समय याद दिलाना हो, या फिर किसी अन्य तरह की जरूरी बातें याद दिलाना हो तो यह घड़ी वाकई जादू करती है।



चंडीगढ़ सेक्टर-68 निवासी नवजोत को घड़ी बनाने की प्रेरणा अपनी सहेली से मिली थी। उनकी सहेली दमा की बीमारी से पीड़ित थीं और उन्हें नियमित तौर पर दवा की जरूरत पड़ती थी। वह दवा लेना भूल जाती थी। नवजोत ने घड़ी को इन्हेलर का रूप दे दिया और यह जादुई घड़ी उनकी सहेली को दवा का वक्त याद दिलाने लगी।


Advertisement

नवजोत को उनकी इस खोज के लिए राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी सम्मानित कर चुके हैं।

Advertisement

नई कहानियां

इस फ़िल्ममेकर के साथ काम करने को बेताब हैं तब्बू, कहा अभिनेत्री न सही, असिस्टेंट ही बना लो

इस फ़िल्ममेकर के साथ काम करने को बेताब हैं तब्बू, कहा अभिनेत्री न सही, असिस्टेंट ही बना लो


इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा

इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा


मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया

मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया


क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए

क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए


G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!

G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Science

नेट पर पॉप्युलर