Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

अकेले गफ्फूर हुसैन रोजाना भरते हैं 15 हजार शरणार्थियों का पेट

Published on 23 December, 2015 at 1:46 pm By

कहते हैं, हिम्मते मर्दा, मददे खुदा। यह कहावत लागू होती है 45 साल उम्र के गफ्फूर हुसैन पर। आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट की वजह से पलायन कर रहे 15 हजार से अधिक शरणार्थियों का पेट भरते हैं हुसैन। स्टॉकटोन के रहने वाले गफ्फूर ने अपनी एक डबल डेकर बस को एक फूड वैन में तब्दील कर दिया है। वह कई लोगों की मदद से रोज शरणार्थियों को भोजन मुहैया करवा रहे हैं।



गफ्फूर कहते हैं कि वह अपनी वैन लेकर ऑस्ट्रिया और क्रोएशिया तक गए थे, ताकि शरणार्थियों की मदद की जा सके। वह कहते हैं कि इससे मुझे असीम खुशी मिलती है, जो और कोई काम करने से न मिलती।


Advertisement

वह कहते हैं कि जब मैनें लोगों को जमा देने वाली ठंड में ठंडा खाना खाते देखा तो मुझे लगा कि एक ट्रैवल रसोई शुरू की जा सकती है, जिससे शरणार्थियों को गर्मागर्म खाना मिलेगा।

Advertisement

नई कहानियां

क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए

क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए


G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!

G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!


Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा

Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा


Charles Macintosh ने किया था रेनकोट का आविष्कार, कभी किया करते थे क्लर्क की नौकरी

Charles Macintosh ने किया था रेनकोट का आविष्कार, कभी किया करते थे क्लर्क की नौकरी


जानिए क्या है Google’s Birthday Surprise Spinner, बच्चों से लेकर बड़ों में है इसका क्रेज़

जानिए क्या है Google’s Birthday Surprise Spinner, बच्चों से लेकर बड़ों में है इसका क्रेज़


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें People

नेट पर पॉप्युलर