Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

पादरी बनते-बनते राजनेता बन गए पूर्व रक्षामंत्री जॉर्ज फ़र्नांडिस, ऐसा रहा जीवन

Published on 29 January, 2019 at 8:14 pm By

पूर्व रक्षामंत्री जॉर्ज फ़र्नांडिस का 88 साल की उम्र में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। मंगलवार 29 जनवरी 2019 को सुबह 7 बजे दिल्ली में उन्होंने अंतिम सांस ली। वो लंबे समय से बीमार चल रहे थे। बताया जा रहा है वो कुछ दिनों से स्वाइन फ्लू से भी पीड़ित थे। वो भारत के पूर्व रक्षामंत्री होने के साथ ही संचारमंत्री, उद्योगमंत्री और रेलमंत्री के रूप में भी कार्यरत रहे।


Advertisement

 

 

 

जॉर्ज-V के नाम पर रखा गया था नाम

जॉर्ज फ़र्नांडिस का जन्म 3 जून 1930 को कर्नाटक के मंगलुरू में एक कैथोलिक परिवार में हुआ था। जॉर्ज के जन्म के दौरान भारत ब्रिटिश साम्राज्य का एक उपनिवेश था। कहा जाता है जॉर्ज की मां ब्रिटेन के तत्कालीन किंग जॉर्ज-V की बहुत बड़ी प्रशंसक थीं। इसलिए उन्होंने अपनी सबसे बड़ी संतान का नाम जॉर्ज रखा. क्योंकि जॉर्ज पंचम का जन्म भी इसी दिन 1865 में हुआ था।

बिहार से था गहरा नाता

जॉर्ज फ़र्नांडिस भले ही मंगलुरू में पले बढ़े हों, लेकिन उनका बिहार से गहरा नाता था। वो चार बार मुज़फ़्फ़रपुर से सांसद के लिए निर्वाचित हुए थे। श्रमिक नेता के रूप में पहचान बनाने वाले फ़र्नांडिस 1967 से 2004 तक 9 बार लोकसभा के सदस्य बने। जॉर्ज की मृत्यु के बाद बिहार की राजनीति में शोक की लहर उमड़ पड़ी है।

 


Advertisement

 

लव स्टोरी नहीं है किसी फ़िल्मी कहानी से कम

जॉर्ज फ़र्नांडिस का राजनीतिक जीवन जिस तरह से इंट्रेस्टिंग रहा है। वैसे ही उनकी पर्सनल लाइफ़ भी काफ़ी मज़ेदार रही है। जॉर्ज की लव स्टोरी किसी फ़िल्मी  कहानी से कम नहीं है। जॉर्ज की पत्नी लैला उन्हें कोलकाता एयरपोर्ट पर मिली थीं। इसके बाद दिल्ली में दोनों की मुलाकातों का सिलसिला शुरू हुआ, जो तीन महीने बाद शादी में बदल गया। मुलाकात के तीन महीने बाद फ़र्नांडिस ने लैला कबीर से 22 जुलाई 1971 को शादी कर ली।



 

 

जया जेटली के साथ संबंध की खबरें भी रहीं शीर्ष पर

शादी के करीब 13 साल बाद लैला और जॉर्ज के जीवन में उतार-चढ़ाव की स्थिति शुरू हो गई। राजनीतिक गलियारों में जॉर्ज फ़र्नांडिस और जया जेटली के बीच संबंधों की हलचल शुरू हो गई , जो अशोक जेटली की पत्नी थीं। इन्हीं खबरों के चलते लैला काफ़ी परेशान रहने लगीं और दोनों अलग हो गए। पूरे 25 साल बाद लैला जॉर्ज के जीवन में वापस लौटीं। लैला का कहना था वो जॉर्ज के पास वापस इसलिए आई हैं क्योंकि जॉर्ज को उनकी ज़रूरत है।

 

 

मुंबई से शुरू हुआ असल राजनीतिक सफ़र

16 साल की उम्र में जॉर्ज को क्रिश्चियन मिशनरी में पादरी बनने के लिए भेजा गया था। लेकिन दो साल के अंदर उन्होंने चर्च छोड़ दिया और रोज़गार की तलाश में मुंबई चले आए। यहां जॉर्ज समाजवादी व मज़दूर आंदोलन का एक सशक्त चेहरा बनकर उभरे। जॉर्ज के आदर्श राम मनोहर लोहिया थे। 1967 के लोकसभा चुनाव में जॉर्ज ने तत्‍कालीन कांग्रेसी नेता एसके पाटिल को बॉम्बे साउथ सीट पर कड़ी शिकस्‍त दी। एसके पाटिल तब के बड़े नेता थे। उन्‍हें हराने के बाद लोग उन्हें ‘जॉर्ज द जायंट किलर’ भी कहने लगे। यह जॉर्ज की सक्रिय राजनीति में पहली बड़ी जीत थी।

आपातकाल के दौरान मिली देशव्यापी पहचान

जिस वक्त देश में आपातकाल की स्थिति बनी थी, उस समय जॉर्ज अपनी पत्नी और बेटे के साथ ओडिशा में छुट्टियां मना रहे थे। उन्हें जैसे ही आपातकाल की सूचना मिली वो तुरंत वहां से निकल गए। करीब 22 महीने तक वो अलग-अलग वेश धरकर आंदोलन चलाते रहे। उनकी पत्नी को भी नहीं पता था वो कहां और कैसे हैं। ऐसे में उनकी पत्नी बेटे को लेकर अमेरिका अपने भाई के पास चली गईं। आपातकाल के दौरान जॉर्ज को जून 1976 में गिरफ़्तार कर लिया गया, जिसके बाद आपातकाल की स्थिति खत्म होने के बाद वो अपनी पत्नी और बेटे को लेकर वापस आ गए।

 

 

2009 में रहा आखिरी कार्यकाल


Advertisement

बतौर सांसद जॉर्ज का आखिरी कार्यकाल राज्यसभा में अगस्त 2009 और जुलाई 2010 के बीच रहा। हालांकि, 2004 के लोकसभा चुनाव में राजग की हार के बाद वो धीरे-धीरे राजनीति के हाशिए पर चले गए। जनता दल यूनाइटेड (जदयू) में उनके मतभेद गहराए तो 2009 के लोकसभा चुनाव में वो निर्दलीय मैदान में उतरे, मगर हार गए। जॉर्ज फ़र्नांडिस के एकलौते बेटे सुशांत कबीर फ़र्नांडिस (सीन) बड़े बैंकर हैं। सीन की पूरी पढ़ाई अमेरिका में ही हुई है। वो न्यूयॉर्क में रहते हैं और वहीं पर ही वो बैंकर हैं।

Advertisement

नई कहानियां

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं

Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें News

नेट पर पॉप्युलर