इस तस्वीर को जिसने भी देखा उसकी आंखें भर आई, मदद को आगे आया लोगों का हुजूम

11:51 pm 19 Sep, 2018

Advertisement

दिल्ली में नगर निगम के कर्मचारियों की स्थिति क्या है ये बात किसी से छिपी नहीं है। यहां हर रोज गटर के गंदे पानी में उतरने वाले कर्मचारियों के साथ कोई न कोई हादसा होता ही है। एक हालिया रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली में जनवरी 2017 से लेकर अब तक सीवर साफ करते हुए औसतन हर पांच दिन में एक कर्मचारी की मौत हुई है। इनमें से ज़्यादातर लोगों के चेहरे कभी सामने आए ही नहीं, जिसके चलते प्रशासन ने भी इन कर्मचारियों की मौत के बाद उनके घरवालों को भुला दिया।

 

हाल ही में दिल्ली जल बोर्ड के सीवर को साफ करते हुए अनिल नामक कर्मचारी भी मौत की भेंट चढ़ गया। लेकिन एक पत्रकार द्वारा खीचीं गई तस्वीर से अनिल के परिवार वालों को बड़ी राहत मिली है।

 

हिन्दुस्तान टाइम्स के पत्रकार नेअनिल की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर साझा की थी, जिसमें अनिल (मृतक) का बेटा अपने पिता के मृत शरीर के पास खड़ा था। एक हाथ उसने अपने पिता के माथे पर तो दुसरे हाथ से वो अपने आंसू पोछ रहा था। सोशल मीडिया पर तस्‍वीर शेयर करते हुए लिखा गया था कि परिवार के पास अनिल के अंतिम संस्कार के लिए भी पैसे नहीं हैं। ऐसे मे परिवार से मदद की अपील की गई थी। इसके बाद ये तस्वीर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल होने लगी। खबर के वायरल होते ही ट्विटर यूजर्स ने मृतक के परिवार वालों के लिए पैसे इकट्ठा करना शुरू कर दिया।

 


Advertisement

 

इस तरह सोशल मीडिया पर 887 यूजर्स ने एक जुट होकर पीड़ित परिवार के लिए करीबन 50 लाख रुपये जुटा लिए हैं, जिसमें 15 रुपये से लेकर 50,000 रुपये तक की सहायता शामिल है। इस बीच दिल्ली सरकार ने भी मृतक के परिवार वालों को 10 लाख रुपये की मदद देने की बात कही है।

 

 

अनिल की पत्नी रानी ने मदद करने वाले लोगों को धन्यवाद दिया है। रानी ने कहा कि इस रकम से वो अपने बच्चों की पढ़ाई-लिखाई करवाएगी. साथ ही उनकी बेहतर परवरिश में भी इससे मदद मिलेगी।

Advertisement

आपके विचार