Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

खाना बर्बाद होने से बचाने के लिए ब्रिटेन के दो दोस्तों ने खोला स्टोर, ग्राहकों की लगती है लाइन

Published on 18 July, 2018 at 11:40 am By

कई बार छोटे-छोटे प्रयास एक व्यापक बदलाव की दिशा में बड़ा कदम साबित होते हैं। कुछ समय पहले इंग्लैंड के एडम स्मिथ और जो हर्कबर्क ने एक ऐसी ही छोटी सी पहल की, जो अब एक खास मुहिम बन चुकी है। इंग्लैंड के रहने वाले इन दो शख्सों ने खाना बर्बाद होने से बचाने के लिए कुछ साल पहले जंक फूड स्टोर चेन की शुरुआत की थी।


Advertisement

इस स्टोर में सुपरमार्केट द्वारा रिजेक्ट किए गए फूड आइटम्स के अलावा, रेस्तरां का बचा हुआ खाना भी लाया जाता है। इसके बाद यहां लाए गए खाने को जरूरतमंद अपनी इच्छा के अनुसार कीमत चुकाकर ले जाते हैं।

 

इस स्टोर में लोगों को हर वो सामान मिलता है, जिसे खरीदने के लिए वो सुपरमार्केट का रुख करते है। इसमें, फल, सब्जियां, ब्रेड, केक और चिकन समेत कई खाद्य पदार्थ शामिल हैं। इस स्टोर की शुरुआत “द रीयल जंक फूड प्रोजेक्ट्स” नाम से की गई थी।

स्टोर को सोमवार से शनिवार तक सिर्फ 2 घंटो के लिए खोला जाता है। इस दौरान यहां खरीदारों की लंबी लाइन लग जाती है। इस स्टोर की लोकप्रियता इतनी तेजी से बढ़ी है कि कई बार कुछ चीजों का ज्यादा स्टॉक आने के बावजूद वो जल्दी ही में बिक जाती है। यहां लाई जाने वाली आइटम्स सुपरमार्केट के स्टैंडर्ड्स को तो मैच नहीं करती, लेकिन ये खाने लायक होती हैं। मसलन सुपरमार्केट में दिए गए डिब्बे पर अगर खरोंच का निशान है तो वो यहां लाया जाता है।  इसके अलावा अगर किसी सब्जी की डंडी हरी से लाल पड़ गई तो वो भी यहां लाई जाती है।



 

 

साल 2016 में एडम ने अपना पहला स्टोर खोला था। वहीं अब इंग्लैंड में उसके ऐसे चार स्टोर खुल चुके है, जबकि 6 नए स्टोर खोलने की तैयारी चल रही है। स्टोर हर हफ्ते लगभग 25 हजार लोगों को खाना उपलब्ध कराता है। साथ ही इनका हर एक स्टोर सप्ताह में लगभग 6 टन खाना बर्बाद होने से बचाता है।

एडम एक समय फार्म में काम किया करते थे। उस फार्म में सुअरों को ककड़ी खिलाई जाती थी और बहुत सी ककड़ी खराब हो जाती थी। वहीं बहुत से लोगों के लिए ककड़ी खरीदना संभव नहीं था। यहीं से उन्हें खाना बचाने का आइडिया आया।


Advertisement

दुनियाभर में हर साल जितना भोजन तैयार होता है उसका एक तिहाई यानी 1 अरब 30 करोड़ टन बर्बाद हो जाता है। भारत की बात करें तो विश्व भूख सूचकांक में भारत का स्थान 67वां है, इस लिहाज से देखें तो भारत में हर चौथा व्यक्ति भूखा सोता है। ऐसे में हमारे देश में इस तरह की पहल उन लोगों के लिए वरदान साबित हो सकती है, जिन्हें दो जून की रोटी मयस्सर नहीं।


Advertisement

 

Advertisement

नई कहानियां

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं

Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Entertainment

नेट पर पॉप्युलर