Advertisement

कोलकाता में गरीबों के लिए ‘फूड एटीएम’ की अनूठी पहल

11:59 am 24 Aug, 2017

Advertisement

कोलकाता एक ऐसा महानगर है जहां लोग आज भी सड़क किनारे सोते हुए और मंदिरों-भंडारों में कतार में लगकर भोजन करते मिलेंगे। शहर में विशेषकर मंदिरों के आसपास दान के पैसे से गरीबों के लिए भंडारे का वितरण किया जाता है। ऐसी जगहों पर गरीब और असक्त लोगों की लम्बी कतार देखी जा सकती है। ऐसे में एक रेस्तरां के मालिक ने कुछ संस्थाओं के साथ मिलकर ‘फूड एटीएम’ शुरू करने की एक अनूठी पहल की है।

दरअसल, हमलोग होटल में खाने जाते हैं तो जरूरत से ज्यादा खाना ऑर्डर करते हैं। खाने का एक हिस्सा बेकार चला जाता है और फेंक दिया जाता है। इसी को ध्यान में रखते हुए सांझा चूल्हा रेस्टोरेंट समूह के सह-मालिक आसिफ अहमद ने ‘फूड एटीएम’ को तीन संस्थान रोटरी, राउंड टेबल और जेआईटीओ की मदद से शुरू किया है।


Advertisement

एटीम को अहमद के पार्क सर्कस रेस्तरां के बाहर लगाया गया है, जिससे कि खाना बर्बाद न हो और गरीबों के काम आ जाए। यह एक पारदर्शी दरवाजे वाला रेफ्रिजेरेटर है, जिसका प्रयोग खाने को स्टोर करने में किया जाता है।

अहमद ने कहा कि वे अपने ग्राहकों से बचे हुए खाने को पैक कर दान कर देने की सलाह देते हैं। रेस्तरां के अलावा शहर के अन्य लोग भी खाना दान कर रहे हैं। लोगों को इसके प्रति जागरुक किया जा रहा है ताकि बचे हुई खाने के साथ साथ लोग फ्रेश खाना भी इसमें दान कर सकते हैं, जो जरूरतमंदों के काम आएगा।

अहमद के अनुसार, शहर के अलग-अलग इलाकों में ऐसी और एटीएम्स लगाईं जाएंगी। एटीम के ऊपर एक प्ले कार्ड लगा है जिस पर लिखा गया है कि ‘जितना खाना एक साल में भारत में बरबाद होता है, उससे मिस्र की आबादी को एक साल तक खाना खिलाया जा सकता है।’

इस एटीम का शुरुआती निवेश 50,000 रुपए है, जिसमें रेफ्रिजेरेटर भी शामिल है। देश के कई हिस्सों में चलाए जा रहे ऐसे एटीम से प्रेरित होकर ही इसे शुरू किया गया है, जो जरूरतमंदों के लिए एक वरदान की तरह है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement