इनका मानना है कि धरती चपटी है, इसे साबित करने के लिए बना दिया रॉकेट और खुद को लॉन्च कर डाला

Updated on 26 Mar, 2018 at 1:56 pm

Advertisement

हम लंबे समय से पढ़ते आ रहे हैं कि धरती गोल है। वास्तविकता भी यही है। हालांकि, दुनिया में ऐसे कई लोग हैं, जिनका कुछ अलग ही मानना है। ऐसे लोगों की कमी नहीं है, जो यह मानते हैं कि धरती गोल नहीं, बल्कि चपटी है।

ऐसे ही लोगों में एक हैं 61 साल के माइक हग्स। अमेरिका के कैलिफोर्निया में रहने वाले माइक को उनके कारनामों की वजह से मैड माइक हग्स भी कहा जाता है

 

scmp


Advertisement

 

दरअसल, लिमोजिन के शौकीन माइक का दिमाग हमेशा अनुसंधान में ही लगा रहता है। इसी धुन में उन्होंने अपने गैराज में पड़े बेकार सामानों से एक रॉकेट बना डाला। यह एक-दो दिन में संभव नहीं हो सका है और इस पर सालों लगे हैं। इस रॉकेट को बनाने में कुल 20 हजार डॉलर का खर्च आया है। और तो और यह साबित करने के लिए धरती चपटी है, माइक ने खुद को इस रॉकेट पर लगा कर प्रक्षेपित कर दिया। खास बात यह है कि इस रॉकेट के साथ माइक ने 350 मील प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भरी और वह 1,875 फीट की ऊंचाई तक पहुंचे। इसके बाद उन्होंने मोजावे रेगिस्तान में लैंड किया।

 

 

हग्स इससे पहले भी इस तरह का कारनामा कर चुके हैं। वर्ष 2014 में 30 जनवरी को उन्होंने एरिजोना में अपने बनाए मानव-रहित रॉकेट का परीक्षण किया था। हालांकि, यह यात्रा सिर्फ 1,374 फ़ीट तक चली। क्रैश लैंडिंग की वजह से वह घायल भी हो गए थे और उन्हें संभलने में तीन दिन का समय लग गया।

हग्स कहते हैं कि उन्हें विज्ञान में भरोसा नहीं है। वह अपने रॉकेट बनाने की कहानी को विज्ञान नहीं कहते, बल्कि एक फॉर्मूला करार देते हैं। वह कहते हैं कि उन्हें एयरोडायनेमिक्स तथा फ्लूड डायनेमिक्स के बारे में जानकारी है।



 

 

हग्स कहते हैं कि यह उनकी योजना का पहला चरण है। हग्स धरती से मीलों दूर अंतरिक्ष में पहुंचना चाहते हैं, जहां से वह ऐसी तस्वीरें खींच सकें जो पृथ्वी को लेकर उनकी थ्योरी को दुनिया के सामने रख सके।

कैलिफोर्निया के एम्बॉय में जब यह रॉकेट प्रक्षेपित किया जिा रहा था, तब ऐसा लग रहा था कि माइक को अपना मिशन अधूरा छोड़ना पड़ेगा, क्‍योंकि हवा काफी तेज थी और उनका रॉकेट लगातार स्‍टीम को खो रहा था।

अब माइक एक ऐसा रॉकेट बनाना चाहते हैं जो गैस से उड़ सके और उन्हें धरती के कम से कम 100 मील दूर अंतरिक्ष में ले जा सके।

 

 

हग्स बतौर लिमो ड्राइवर टिप मिलाकर प्रति घंटा कुल 15 डॉलर कमा लेते हैं। उन्होंने इस आविष्कार के लिए दुकानों से मेटल खरीदा और इसके साथ ही उसने 15 सौ डॉलर में एक मोटर ख़रीद कर उसे सस्ते पेंट से अच्छे से पॉलिश किया।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement