अयोध्या की शोभायात्रा में भाग लिया पांच मुस्लिम भाइयों ने, कोई बना हनुमान तो कोई महादेव

Updated on 20 Oct, 2017 at 9:35 pm

Advertisement

हेडलाइन को पढ़कर आपको भले ही अजीब लगा हो, लेकिन यह सच है। अयोध्या की प्रसिद्ध शोभायात्रा में न केवल हिन्दू समुदाय के लोग बल्कि मुस्लिम भी भाग लेते हैं। इस शोभायात्रा कुछ मुसलमानों की खास भूमिका रहती है।

दरअसल, राजस्थान के दौसा जिले से पांच मुस्लिम भाई अयोध्या की शोभायात्रा में भाग लेने के लिए खासतौर पर आए। शमशाद यहां के बहुरूपिया समुदाय से संबद्ध हैं। वह अपने चार अन्य भाइयों के साथ इस शोभायात्रा में भाग लेते हैं।


Advertisement

अयोध्या में दिवाली के अवसर पर प्रतिवर्ष साकेत कॉलेज से राम कथा पार्क तक शोभायात्रा का आयोजन किया जाता है। शमशाद वानर सेना का सदस्य बने, जबकि उनके भाई फरीद, सलीम, अकरम व फिरोज क्रमशः भगवान शिव, हनुमान, कृष्ण व जिन्न की भूमिका में दिखे।

टाइम्स ऑफ इंडिया की इस रिपोर्ट में फरीद के हवाले से बताया गया है कि उसका परिवार लंबे समय से रामलीला परिवार का हिस्सा रहा है। हालांकि, यह पहली बार है जब उन्हें अयोध्या बुलाया गया है। शोभायात्रा के दौरान श्रद्धालुओं ने इन भाइयों पर न केवल फूल बरसाए, बल्कि उनके पैर छूए और तस्वीरें खींची।

शोभा यात्रा का नेतृत्व अमित और रवि वर्मा नाम के दो भाइयों ने किया, जो राम और लक्ष्मण बने थे।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement