‘धंचायत’ से जानें आखिर क्यों बैंक का ही लोन है सबसे सस्ता, सरल और स्वच्छ

author image
Updated on 10 Nov, 2016 at 6:04 pm

Advertisement

आज भी गांव में कई ऐसे लोग हैं, जो ठेकेदारों और बिचौलियों से पैसे उधार पर लेते हैं, पैसा सूद पर लेने पर उन्हें कई गुना दर के साथ उसका भुगतान करना पड़ता है। ऐसे ठेकेदार इन गांव के लोगों की मजबूरी का फायदा उठा, उनसे अधिक ब्याज वसूलते हैं।

ग्रामीण लोग ऐसे ठेकेदारों के चंगुल में न फंसे, बैंक की सेवा अपनाएं, इस दिशा में लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से ‘धंचायत’ नाम की एक एजुकेशनल फिल्म बनाई गई है।

देश के ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों के लिए बैंक के सीएसआर द्वारा शुरू किए गए स्वच्छ और सुरक्षित बैंकिंग के तहत इस फिल्म को लॉन्च किया गया है।

‘धंचायत’ यानी कि धन की पंचायत नाम की इस लघु फिल्म में बैंक से कैसे पैसे पाएं, बचाएं और बढ़ाएं जैसी जानकारियां दी गई हैं, जो अत्यधिक उपयोगी है।

पैसे के लेन-देन और लोन के मामले में बैंक ही कारगर होते हैं, बैंक का लोन ही है संबसे तेज और सबसे सच्चा है।



जानिए धन की इस पंचायत में कैसे बैंक का लोन ही सबसे तेज और सबसे सच्चा है:


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement