फेसबुक, ट्विटर पर फोटो अपलोड-शेयर करने के खिलाफ फतवा

Updated on 19 Oct, 2017 at 2:00 pm

Advertisement

दारूम उलूम देवबंद आये दिन फतवा जारी करता रहता है।

देवबंद ने अपने नए फतवे में कहा है कि सोशल मीडिया पर फोटो पोस्ट करना या शेयर करना हराम है। फतवा में कहा गया है कि फेसबुक, ट्विटर या अन्य सोशल साइट्स पर फोटो अपलोड या शेयर करना इस्लाम के खिलाफ है।

ऐसा करने वाले मुस्लिम के खिलाफ फतवा जारी किया जा सकता है।

देवबंद के फतवा विभाग ने जवाब जारी करते हुए कहा है कि मुस्लिम महिलाओं और पुरुषों को अपने या अपने परिवार के सदस्यों के फोटो फेसबुक, वॉट्सऐप या किसी अन्य सोशल साइट्स पर अपलोड या शेयर करना इस्लाम में नाजायज है। एक शख्स ने लिखित तौर पर यह जवाब मांगा था। उसकी जिज्ञासा थी कि फेसबुक और वॉट्सऐप पर अपना या पत्नी का फोटो अपलोड या शेयर करना क्या इस्लाम के हिसाब से जायज है या नहीं।

asianews.it


Advertisement

दुनियाभर के मुस्लिम लोगों के लिए फतवा

देवबंद ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि यह फतवा हालांकि एक व्यक्ति के लिए जारी हुआ है, लेकिन यह दुनिया भर के मुस्लिमों के लिए है। चूंकि सोशल मीडिया पर पूरे विश्व के लोग आपस में जुड़े हुए हैं और जाहिर है कि मुस्लिम भी इसका इस्तेमाल करते हैं।

मदरसा जामिया हुसैनिया के मुफ्ती तारीख कासमी ने अपनी सहमति जताते हुए कहा है कि इस्लाम के मुताबिक फेसबुक, ट्विटर और अन्य सोशल साइट्स पर अपनी या बीवी या किसी गैर-महिला का फोटो अपलोड करना व शेयर करना किसी भी सूरत में जायज नहीं कहा जा सकता है।

इससे पहले भी जारी हुए थे ऐसे फतवे

ऐसा पहली दफा नहीं है कि जब सोशल मीडिया के इस्तेमाल को इस्लाम में मनाही की बात की गई है। साल 2012 में उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में दरगाह आला हजरत के एक मदरसे ने भी फेसबुक, ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट्स और मैट्रिमनियल साइट्स पर फोटो अपलोड करने को नाजायज करार दिया था।

5 साल पहले इजहार नाम के शख्स ने मदरसा मंजर-ए-इस्लाम के फतवा विभाग को इस बावत सवाल किए थे। उस वक्त मुफ्ती सैयद मोहम्मद कफील ने कहा कि इस्लाम में तस्वीर को नाजायज करार दिया गया है। इंटरनेट पर शादी या फिर दोस्ती के लिए फोटो का इस्तेमाल करना बेहयाई बताया गया था। सलाह ये दिया गया था कि मुसलमानों को इन सबसे बचकर रहना चाहिए।

इस्लाम सोशल मीडिया के जरिए फोटो अपलोड और शेयर करने की इजाजत नहीं देता।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement