Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

सड़क दुर्घटना में जवान बेटे को खो बैठे पिता की आप से है एक गुजारिश

Published on 15 February, 2016 at 1:58 pm By

भारत में जहां गियर वाले 2-व्हीलर या 4-व्हीलर वाहनों को चलाने की कानूनी तौर पर उम्र 18 साल है, वहीं कुछ लोग इस कानून की धज्जियां उड़ाते हुए आपको अक्सर दिख जाएंगे। इनमें से अधिकतर स्कूल जाने वाले बच्चे होते हैं, जो न केवल ऐसे वाहनों को चलाते है, बल्कि इन पर खतरनाक स्टंट्स करते हैं।

बिना गियर 2-व्हीलर वाहनों को चलाने की न्यूनतम उम्र 16 साल है। लेकिन असल में उनमें से कितने इस कानून का पालन करते है?


Advertisement

Dangerous stunt

आए दिन हम सड़क हादसों में लोगों की मौत की खबरें सुनते हैं। ऐसे ही सड़क हादसे में एक पिता ने अपने 18 साल के बेटे को खो दिया। उनके बेटे ने हेलमेट नहीं पहना हुआ था।

जवान बेटे को खोने का दर्द, आज भी उनके दिल में है। लेकिन आगे कोई और बाप अपने बेटे, अपने किसी परिजन को न खोए, इस दिशा में उन्होंने अपनी तरफ से एक पहल की है। उन्होंने लोगों को हेलमेट पहनने के लिए जागरूक करने की एक शुरुआत की है।



Father Initiative

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में सड़क दुर्घटनाओं में अकेले 2013 में ही 1,37,572 लोगों की जान गई। जिनमें से 34 प्रतिशत जान गंवाने वाले 2-व्हीलर या 3-व्हीलर चालक है।

Deaths by road

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) की जारी दुर्घटना में होने वाली मौतों पर रिपोर्ट- 2014 के अनुसार सबसे ज्यादा दुर्घटनाएं तमिलनाडु, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, केरल में दर्ज की गई। सड़क दुर्घटनाओं में मरने वालों में बड़ा हिस्सा उत्तर प्रदेश का रहा, जहां सड़क हादसों में 16284 लोगों ने अपनी जान गवांई। इस क्रम में उत्तर प्रदेश के बाद महाराष्ट्र और तमिलनाडु आते हैं।

Road accidents chart as per state

कानूनों को सही से अमल में लाने की समस्या के बीच, WHO की रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि भारत में कोई आपातकालीन कक्ष क्षति निगरानी प्रणाली नहीं है, जो ऐसे मामलों को जल्द से जल्द देख सके। और तो और न ही ऐसा कोई ठोस कानून है, जो हेलमेट की आवश्यकता पर ज़ोर डाले।


Advertisement

एक जागरूक नागरिक होने के नाते हमारा यह फर्ज बनता है कि हम सड़क से जुड़े नियमों का पालन करें। जिस तरह से यह पिता अपनी तरफ से एक शुरुआत कर रहा है, उसी तरह से हमें भी इस तरफ एक कदम बढ़ाना होगा। पहल अपने आप से करने होगी, अपनों से करनी होगी।

Advertisement

नई कहानियां

कभी फ़ुटपाथ पर सोता था ये शख्स, आज डिज़ाइन करता है नेताओं के कपड़े

कभी फ़ुटपाथ पर सोता था ये शख्स, आज डिज़ाइन करता है नेताओं के कपड़े


किसी प्रेरणा से कम नहीं है मोटिवेशनल स्पीकर संदीप माहेश्वरी की कहानी

किसी प्रेरणा से कम नहीं है मोटिवेशनल स्पीकर संदीप माहेश्वरी की कहानी


इस फ़िल्ममेकर के साथ काम करने को बेताब हैं तब्बू, कहा अभिनेत्री न सही, असिस्टेंट ही बना लो

इस फ़िल्ममेकर के साथ काम करने को बेताब हैं तब्बू, कहा अभिनेत्री न सही, असिस्टेंट ही बना लो


इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा

इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा


मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया

मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें People

नेट पर पॉप्युलर