किसानों ने अपनी फसल पर चलाया ट्रैक्टर, जानिए क्यों

author image
Updated on 29 Dec, 2016 at 1:56 pm

Advertisement

नोटबंदी की मार से देश का पालन-पोषण करने वाला किसान भी हताश है। किसानों की तैयार फसल को सही दाम नहीं मिल रहे हैं, जिसकी वजह से किसान अब सड़कों पर अपनी फसल फेंकने को मजबूर है या उन्हें नष्ट कर रहे हैं।

अमृतसर के मजीठा में फलियों (फ्रेंचबीन) की खेती करने वाले किसान परेशान हैं, जिसकी वजह फसल खराब होना नहीं, बल्कि उसके बाजिब दाम न मिलना है। अब ये किसान अपनी तैयार फसल पर ट्रैक्टर चला कर अपना विरोध जता रहे हैं।

फलियों की खेती करने वाले एक किसान का कहना है कि उसने दो बीघा जमीन पर फलियों की फसल उगाई थी। इस खेती पर उनका कुल खर्च 17 हज़ार रूपये आया था लेकिन मुनाफा तो दूर, उन्हें मंडी में फसल की वाजिब कीमत तक नहीं मिल रही है, जिस कारण किसानों को अपने हाथों से लगाई इस फसल को बर्बाद करना पड़ रहा है।

इसी तरह से एक किसान ने चार एकड़ जमीन पर सब्जी की खेती की थी। इस फसल पर करीब छह रुपए प्रति किलो खर्च आया था, मंडी में उसका दाम चार रुपए किलो से ज्यादा नहीं मिल रहा है।


Advertisement

देश का अन्नदाता अब अपनी कड़ी मेहनत की कमाई पाने के लिए दर-दर भटक रहा है। किसान इस बात से हताश हैं कि उन्हें अपनी फसल के वो दाम नहीं मिल रहे जिसकी उन्हें उम्मीद थी।

साभार: SUNO

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement