इस किसान ने केमिकल कंपनी को कठघरे में खड़ा करने के लिए 16 साल तक की कानून की पढ़ाई

author image
Updated on 8 Feb, 2017 at 4:32 pm

Advertisement

खेती की जमीन को प्रदूषित करने के मामले में एक शक्तिशाली केमिकल कंपनी को सबक सिखाने के उद्येश्य से एक किसान ने खुद 16 साल तक कानून की पढ़ाई की। वह इसमें सफल भी और कंपनी को कठघरे में खड़ा कर दिया।

आश्चर्यजनक रूप से किसान ने इस मामले के पहले राउन्ड में जीत हासिल कर ली है।

डेली मेल में पीपुल्स डेली ऑनलाइन की रपट के हवाले से बताया गया है कि सिर्फ तीसरी कक्षा तक की पढ़ाई करने वाले वांग एनलिन नामक किसान ने चीन की सरकारी केमिकल कंपनी क्वीहुआ ग्रुप को न्यायालय में घसीट लिया है और इस केस के पहले राउन्ड में जीत भी हासिल कर ली है। करीब 233 मीलियन पाउन्ड की संपत्ति वाले क्वीहुआ ग्रुप ने इस फैसले के खिलाफ चीन की ऊंची अदालत में अपील दायर की है। हालांकि, वांग एनलिन भी पीछे हटने वालों में से नहीं हैं। बुजुर्ग एनलिन कहते हैं कि वह अपने लिए तथा अपने पड़ोसियों को न्याय हासिल करके रहेंगे।

चीन में हेलोंगजियांग प्रान्त में स्थित क्वीक्वीहार में रहने वाले 60 वर्षीय वांग एनलिन तथा उनके पड़ोसियों का कहना है कि केमिकल कंपनी की वजह से वे अपने खेतों में अनाज नहीं उपजा पा रहे हैं।

एनलिन कहते हैंः


Advertisement

“मुझे वर्ष 2001 का वह दिन अब भी याद है जब क्वीहुआ ग्रुप द्वारा छोड़े गए खतरनाक रसायन से मिले पानी में मेरे खेत डूब गए थे। रसायनों की बाढ़ में गांव के कुछ अन्य खेत भी डूबे।”

इस गांव के लोग खेती पर निर्भर करते हैं। बाद में एक सरकारी रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ कि वर्ष 2001 की इस इस घटना की वजह से प्रदूषित हो गए ये खेत लंबे समय तक उपज के काबिल होंगे। वर्ष 2001 से वर्ष 2016 के बीच क्वीहुआ ग्रुप ने यहां अपना कारोबार जारी रखा और इस गांव के अधिकतर भाग को डंपिंग ग्राउन्ड के रूप में इस्तेमाल किया। इस दौरान प्रतिवर्ष करीब 15 हजार से 20 हजार टन केमिकल कचरा यहां फेंका गया।

किसान वांग ने पहली बार वर्ष 2001 में यह मामला सरकार के समक्ष उठाया था। हलांकि, उनके कम पढ़े-लिखे होने की वजह से उन्हें सरकारी महकमों से निराश होना पड़ा। स्थानीय अधिकारियों ने उन्हें सबूत के साथ आने को कहा। इसके अलावा कई तरह की कानूनी पेचिदगियां वांग के न्याय की आस में रुकावट बन रहे थे।

लगातार संघर्ष के बीच बांग ने फैसला किया कि वह खुद कानून की पढ़ाई करेंगे और क्वीहुआ केमिकल कंपनी को कठघरे में खड़ा करेंगे। कक्षा तीन में स्कूली पढ़ाई छोड़ देने वाले वांग ने अगले 16 साल तक कानून की पढ़ाई की। इस दौरान उन्होंने डिक्शनरी की मदद से दर्जनों कानून की किताबें पढ़ीं।

अब वह इतने काबिल हो गए हैं कि इस बड़ी कंपनी को कोर्ट में घसीट सकें और न्याय हासिल कर सकें।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement