Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

ये गाना सुनकर जवान माइनस 40 डिग्री सेल्सियस में भी भर जाते हैं जोश से

Updated on 31 January, 2019 at 12:26 am By

Advertisement

सर्दी का मौसम चल रहा है और लोग घरों में दुबककर या फिर गर्म कपड़े पहनकर खुद को बचाते हैं। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि पहाड़ की बर्फ से घिरी चोटियों पर सेना के जवानों पर क्या बीतती होगी। जाहिर है, शरीर में सिहरन पैदा करने के लिए ये सोचना ही काफी होता है। ऐसे विपरीत माहौल में भी सैनिक देश की सेवा में जुटे पाए जाते हैं।

ये सोचने वाली बात है कि आखिर उन्हें ये शक्ति कहां से मिलती है!

 

 


Advertisement

बॉर्डर पर सेना के जवान जान जोखिम में डालकर दिन-रात लगे रहते हैं। इसके लिए उनमें देशप्रेम की भावनाएं तो होती ही हैं, साथ ही उनकी ट्रेनिंग भी इसको देखते दी जाती है। ट्रेनिंग के दौरान उन्हें विपरीत परिस्थिति में कैसे खुद को मजबूत रखना है इसकी पूरी समझ विकसित की जाती है। लिहाजा वे कई तरह की एक्टिविटीज करते हैं जिससे उन्हें ठंढ में भी डटे रहने की ताकत मिलती है।

 

 



बता दें कि असम रेजिमेंट के जवान माइनस 40 डिग्री सेल्सियस तापमान में भी एक गीत गाकर और उस पर नृत्य कर खुद को तैयार रखते हैं। ये गीत एक लीजेंड बन चुका है और रेजिमेंटल गीत के रूप में माना जाता है। ये गीत है – “बदलु राम का बदन ज़मीन के नीचे है और हमको उसका राशन मिलता है।” 16,000 फीट की ऊंचाई पर सैनिक उत्तरी सिक्किम में चीन के साथ संवेदनशील सीमा पर पहरा तो देते ही हैं बल्कि कड़ाके की ठंड से भी जूझ रहे हैं।

आप सैनिकों के इस फेमस गाने को यहां देख सकते हैं –

कठिन परिस्थिति से लड़ने के लिए जवान और अधिकारी हल्के क्षणों को साझा करते हुए मन बहलाने की कोशिश करते हैं। इस रेजिमेंटल गाने की पीछे की कहानी भी खूब शेयर किया जाता है। दरअसल, द्वितीय विश्व युद्ध में असम रेजिमेंट के एक सैनिक बदलू राम की मौत हो गई थी। लेकिन उसके हिस्से का राशन जो कि पर्याप्त मात्रा में था, सैनिकों को उस राशन से जीवित रहने में मदद मिली। सब ऐसे कठिन माहौल में बदलू राम को याद कर खुद को मजबूत रखते हैं।

 

 


Advertisement

बताते चलें कि नार्थ सिक्किम में चीन की सीमा पर असम रेजिमेंट का दुनिया में सबसे ऊंचा हेडक्वार्टर है। यहां तिब्बती पठार का प्रवेश द्वार है और बेहद संवेदनशील है। इसलिए यहां जवानों को 19,000 फीट तक चौबीस घंटे चौकस रहना पड़ता है। हमें ऐसे वीर सैनिकों पर नाज है!

Advertisement

नई कहानियां

रणवीर सिंह की धांसू एक्टिंग का दीवाना हुआ ये हॉलीवुड स्टार, जमकर कर रहा तारीफ

रणवीर सिंह की धांसू एक्टिंग का दीवाना हुआ ये हॉलीवुड स्टार, जमकर कर रहा तारीफ


शहीद जवानों के परिवार की मदद को आगे आया रिलायंस, पढ़ाई-रोजगार और घर-खर्च का लिया ज़िम्मा

शहीद जवानों के परिवार की मदद को आगे आया रिलायंस, पढ़ाई-रोजगार और घर-खर्च का लिया ज़िम्मा


पुलवामा हमले को लेकर फूट रहा लोगों का गुस्सा, लेकिन विरोध का ये तरीका कहां तक जायज़ है?

पुलवामा हमले को लेकर फूट रहा लोगों का गुस्सा, लेकिन विरोध का ये तरीका कहां तक जायज़ है?


‘द कपिल शर्मा शो’ में अब ये एक्ट्रेस लेंगी सिद्धू की जगह!

‘द कपिल शर्मा शो’ में अब ये एक्ट्रेस लेंगी सिद्धू की जगह!


Snapchat की तरह ही ट्विटर भी जल्द ला रहा है ये ‘विजुअल शेयरिंग फ़ीचर’

Snapchat की तरह ही ट्विटर भी जल्द ला रहा है ये ‘विजुअल शेयरिंग फ़ीचर’


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

और पढ़ें ट्विटर का टशन

नेट पर पॉप्युलर