अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट से जुड़ी 10 अहम बातें

Updated on 13 Sep, 2017 at 5:41 pm

Advertisement

नरेंद्र मोदी सरकार भारत के बुलेट ट्रेन के सपने को पूरा करने में बड़ी शिद्दत से जुटी है। भारत दौरे पर पहुंचे जापानी प्रधानमंत्री शिंदो अबे अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन का शिलान्यास करेंगे। सरकार की योजना 2022 तक इसे तैयार करने की है। सरकार के मुताबिक 75वें स्वतंत्रता दिवस यानी 15 अगस्त 2022 तक लोगों को बुलेट ट्रेन की सौगात मिल जाएगी।

ये होगी बुलेट ट्रेन की खासियत

  • भारत में चलने वाली बुलेट ट्रेन की अधिकतम गति सीमा 350 किलोमीटर होगी। यह प्रोजेक्ट पांच साल में तैयार होगा।
  • इस पर कुल खर्च एक लाख दस करोड़ रुपए का खर्च आने की संभावना है।
  • इस महंगे प्रोजेक्ट के लिए जापान भारत को 88,000 करोड़ रुपए का कर्ज दे रहा है। 1 प्रतिशत के ब्याज से दिए जाने वाले इस कर्ज को लौटाने की समय सीमा 50 वर्ष तय की गई है।
  • इस परियोजना के लिए हर साल 20,000 करोड़ रुपए का खर्च होगा।
  • इसके तहत 21 किलोमीटर की देश की सबसे लंबी सुरंग का निर्माण होगा, जिसमें 7 किलोमीटर हिस्सा समुद्र के भीतर होगा।
  • मुंबई के भूमिगत हिस्से को छोड़ पूरा कॉरिडोर एलीवेटेड होगा। बाकी सभी स्टेशन एलीवेटेड होंगे।
    Advertisement

  • हर दिन 36,000 लोग बुलेट ट्रेन से यात्रा कर सकेंगे।
  • इसे 320 किलोमीटर की अधिकतम स्पीड पर चलाया जाएगा।
  • सीमित स्टॉप पर रुकने की स्थिति में मुंबई से अहमदाबाद पहुंचने में 2 घंटे 7 मिनट का समय लगेगा, जबकि सभी स्टॉप पर रुकने की हालत में 2 घंटे 58 मिनट लगेंगे।
  • मुंबई से अहमदाबाद के बीच कुल 12 स्टेशन होंगे। मुंबई, थाणे, विरार, बोइसर, वापी, बिलीमोरा, सूरत, भरूच, वडोदरा, आनंद, अहमदाबाद तथा साबरमती।
Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement