चंदा मामा से जुड़े 14 फैक्ट्स जिनके बारे में आपको शायद ही पता हो।

author image
Updated on 14 Dec, 2015 at 6:17 pm

Advertisement

इस साल मून की वजह से क्रिसमस ख़ास होने वाला है। जी हां, पूरे 38 साल बाद सांता क्लॉज आपको फुल मून नाईट में गिफ्ट्स देंगे। अनादि काल से चंद्रमा बच्चों के मामा और कवि की प्रियतमा का दोहरा किरदार निभाता रहा है। सिर्फ इनके लिए नहीं चांद वैज्ञानिकों, ज्योतिषियों और वैद्यों के बीच भी खासा लोकप्रिय है।

किसी के लिए चांद लोरी की धुन है, तो किसी के लिए भविष्य में मानव की पहली अंतरग्रहीय बस्ती। मानवीय अवचेतन के सभी आयामों को स्पर्श करता चंद्रमा किसी न किसी रूप में हमारे जीवन में बहुत बड़ा स्थान रखता है। आज हम आपको बताएंगे चंदामामा से जुड़े बेहतरीन 14 फैक्ट्स जो शायद आप को पहले से पता न हों।

1. चन्द्रमा पर पूरा एक दिन(सूर्योदय से अगले सूर्योदय) का समय,धरती के 29.5 दिनों के बराबर होता है।

2. यदि आप अपनी कार से चन्द्रमा की यात्रा करें, तो 95 KM/घंटा के रफ़्तार से आप 6 महीने से भी कम समय में वहां तक पहुँच सकते हैं।

img

img


Advertisement

3. आप अक्सर सोचते होंगे की पूर्ण सूर्य ग्रहण में कैसे पूरे सूर्य को चंद्रमा अध्यारोपित कर लेता है? दरअसल सूर्य चन्द्र से 400 गुना बड़ा है, और यह चन्द्रमा की तुलना में पृथ्वी से 400 गुना दूर भी है। इसी वजह से हमें इतना सुन्दर नजारा देखने को मिलता है।

4. चांद का आकार पृथ्वी की ही भांति पूर्णतः गोलाकार न होकर अंडे जैसा है।

5. चंद्रमा आकार में प्लूटो से भी बड़ा है। और तो और यह पृथ्वी की त्रिज्या का 1/4 है।

6. अध्ययन बताते हैं की पूर्णिमा को नींद कम आती है और अमावस्या को अच्छी नींद आती है। यानी चंदामामा आपकी नींद में वाकई प्रमुख भूमिका निभाते हैं।

7. 1969 में नील आर्मस्ट्रांग द्वारा चंद्रमा पर फहराया गया अमेरिकन फ्लैग सूर्य की विकिरणों के कारण अब सफ़ेद पड़ गया है।

8. नील आर्मस्ट्रांग के साथ मून के पहले यात्री बज एल्ड्रिन की मां की नाम भी संयोग से ‘मून’ ही था ।

9. यदि आप चांद पर जायेंगे तो आपका वजन आपके पृथ्वी के वजन का 16.5% हो जाएगा।

10. 2013 में अमेरिका में हुए एक सर्वे के अनुसार आज भी वहाँ के 7 % लोग ये मानते हैं की ‘चन्द्र यात्रा’ नासा के एक मजाक के सिवा कुछ नहीं है।

11. चन्द्रमा में इन्टरनेट की अधिकतम स्पीड 19 mb/सेकेंड हो सकती है। तब तो फ्यूचर में अपन तो भैया मून में शिफ्ट होंगे।

12. चंद्रमा में दिखने वाला काला और धब्बेदार हिस्सा काला न होकर फिरोजी होता है।

13. शीत युद्ध के समय अमेरिका ने अपनी सैन्य योग्यता के प्रदर्शन के लिए चन्द्रमा पर परमाणु बम गिराने की योजना भी बना ली थी।

14. नासा के अनुसार चन्द्रमा में किसी यात्री को पहुंचाने में लगा समय, अमेरिका द्वारा ओसामा तक पहुचने में लगे समय और खर्चे के बराबर होता है। यानी 10 साल और लगभग 60000 करोड़ रुपए।

scmp

scmp


Advertisement

Tags

आपके विचार


  • Advertisement