Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

जेनेवा संधि से जुड़ी ख़ास बातें, जिसके तहत पाकिस्तान भारतीय पायलट का कुछ नहीं बिगाड़ सकता

Updated on 1 April, 2019 at 11:53 am By

बुधवार को पाकिस्तानी वायुसेना ने भारतीय सीमा में घुसने का दुस्साहस किया, भारतीय वायुसेना ने उन्हें खदेड़ तो दिया, लेकिन पाकिस्तान ने हमारे एक विमान को मार गिराने और पायलट को बधक बनाने का दावा किया। इसके बाद विदेश मंत्रालय ने भी पायलट के मिसिंग होने की बात मान ली और यह साफ हो गया कि विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान के कब्जे में है।


Advertisement

विंग कमांडर अभिनंदर के पाकिस्तान में कैद की खबर सुनते है पूरा देश उनकी सलामती की दुआए करने लगा और उन्हें वापस लाने की मांग तेज़ हो रही है। सरकार ने भी पाकिस्तान से साफ कह दिया है कि वह इस बात का ध्यान रखें कि विंग कमांडर को किसी तरह का नुकसान न हो और उन्हें सही सलामत लौटा दे। वैसे आपको बता दें कि पाकिस्तान पायलट अभिनंदन के साथ कुछ बुरा नहीं कर सकता और इसकी वजह है जेनेवा समझौता। युद्धबंदियों के अधिकारों की रक्षा के लिए बनाए गए इस समझौते में आखिर क्या है जिससे युद्धबंदियों की हिफाजत होती है। चलिए आपको बताते हैं जेनेवा समझौते से जुड़ी खास बातें।

 

  • जेनेवा समझौते में चार संधियां और तीन अतिरिक्त प्रोटोकॉल (मसौदे) शामिल हैं, जिसका मकसद युद्ध के वक्त मानवीय मूल्यों को बनाए रखने के लिए कानून तैयार करना है।
  • पहली संधि 1864 में हुई थी, इसके बाद दूसरी और तीसरी संधि 1906 और 1929 में हुई। दूसरे विश्व युद्ध के बाद 1949 में 194 देशों ने मिलकर चौथी संधि की थी।
  • इंटरनेशनल कमेटी ऑफ रेड क्रास के मुताबिक जेनेवा समझौते में युद्ध के दौरान गिरफ्तार सैनिकों और घायलों के साथ कैसा बर्ताव करना है इसको लेकर दिशा-निर्देश दिए गए हैं।
  • जेनेवा समझौते में दिए गए अनुच्छेद 3 के मुताबिक युद्ध के दौरान घायल लोगों का सही इलाज होना चाहिए।
  • युद्धबंदियों के साथ बर्बरतापूर्ण व्यवहार नहीं किया जा सकता, सैनिकों को कानूनी सुविधाएं भी दी जानी चाहिए।
  • जेनेवा संधि के तहत युद्धबंदियों को डराया-धमकाया नहीं जा सकता और न ही उनका अपमान किया जा सकता। हां, उनके ऊपर मुकदमा ज़रूर चलाया जा सकता है। साथ ही युद्ध के बाद युद्धबंदियों को वापस लैटाना होता है।



  • युद्धबंदियों को लेकर जनता में उत्सुकता पैदा नहीं की जा सकती और उनसे सिर्फ उनके नाम, सैन्य पद, नंबर और यूनिट के बारे में पूछा जा सकता है अन्य जानकारी के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता।
  • संधि के तहत उन्हें खाना-पीना और जरूरत की सभी चीजें दी जानी चाहिए।
  • किसी देश का सैनिक जैसे ही पकड़ा जाता है उस पर ये संधि लागू होती है। (फिर चाहे वह स्‍त्री हो या पुरुष)
  • युद्धबंदी से उसकी जाति, धर्म, जन्‍म आदि बातों के बारे में नहीं पूछा जा सकता।

 


Advertisement

आमतौर पर देश इन नियमों का पालन करते हैं, लेकिन पाकिस्तान पहले भी कई बार इस संधि का उल्लंघन कर चुका है, उम्मीद है इस बार वह ऐसी गलती नहीं करेगा।

Advertisement

नई कहानियां

WAR Full Movie Leaked Online to Download: Tamilrockers पर लीक हो गई WAR, एचडी प्रिंट डाउनलोड करके देख रहे हैं लोग!

WAR Full Movie Leaked Online to Download: Tamilrockers पर लीक हो गई WAR, एचडी प्रिंट डाउनलोड करके देख रहे हैं लोग!


Tamilrockers पर लीक हुई ‘छिछोरे’, देखने के साथ फ्री में डाउनलोड कर रहे लोग

Tamilrockers पर लीक हुई ‘छिछोरे’, देखने के साथ फ्री में डाउनलोड कर रहे लोग


Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें News

नेट पर पॉप्युलर