अटलजी को हर महीने मिलती थी इतने रुपये पेंशन, साथ ही दी गई थीं कई और सुविधाएं

author image
Updated on 20 Aug, 2018 at 6:21 pm

Advertisement

93 साल की उम्र में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी पंचतत्व में मिल गए। बतौर राजनेता अटल बिहारी वाजपेयी हर मुमकिन ऊंचाई तक पहुंचे। वे प्रधानमंत्री के तौर पर अपना कार्यकाल पूरा करने वाले पहले गैर-कांग्रेसी प्रधानमंत्री रहे। आज भारतीय जनता पार्टी जिस मुकाम पर खड़ी है, उसमें अटलजी का बड़ा योगदान है।

 

Atal Bihari Vajpayee Pension

 


Advertisement

अटलजी ने प्रधानमंत्री के रूप में तीन बार देश का नेतृत्व किया है। वह पहली बार साल 1996 में 16 मई से 1 जून तक, 19 मार्च 1998 से 26 अप्रैल 1999 तक और फिर 1999 से  2004 तक देश के प्रधानमंत्री रहे। फिर इसके बाद 2005 में उन्होंने राजनीतिक जीवन से संन्यास ले लिया।

 

Atal Bihari Vajpayee Pension

 

संन्यास लेने के बाद उन्हें बतौर पूर्व प्रधानमंत्री कई सुविधाएं प्राप्त थीं। बता दें कि प्रधानमंत्री पद की भी सैलरी मिलती है और पद से हटने के बाद पेंशन और सरकारी सुविधाएं मिलती हैं।

 

Atal Bihari Vajpayee Pension

 

पूर्व प्रधानमंत्री होने के नाते अटलजी को 20 हजार रुपये की मासिक पेंशन और सचिवीय सहायता के साथ 6 हजार रुपये का कार्यालय खर्च भी मिलता था।

 



Atal Bihari Vajpayee Pension

 

पेंशन और अन्य भत्ते के साथ-साथ अटल जी को रहने के लिए सरकार की तरफ से एक बंगला भी भी दिया गया था। अटल जी के लिए 14 लोगों की एक सचिवीय टीम भी प्रदान की गयी थी।

 

Atal Bihari Vajpayee Pension

अटल जी के लिए असीमित रेल यात्रा की भी सुविधा मुहैया करवायी गयी थी। वो चाहे जितनी भी यात्राएं कर सकते थे। इसके साथ ही साल के छह घरेलू एग्जीक्यूटिव क्लास हवाई टिकट की भी सुविधा थी।

 

Atal Bihari Vajpayee Pension

 

अटल बिहारी वाजपेयी को एसपीजी सुरक्षा के साथ ही आजीवन मुफ्त चिकित्सा की भी सुविधा प्रदान की गयी थी। सरकार की तरफ़ से आजीवन बिजली और पानी भी मुफ्त में दिया जा रहा था।

 

Atal Bihari Vajpayee Pension

 


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement