वाह! मध्य प्रदेश का यह विश्वविद्यालय हिन्दी में करा रहा है इन्जीनियरिंग की पढ़ाई

author image
Updated on 20 Aug, 2016 at 3:51 pm

Advertisement

मध्य प्रदेश का अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय हिन्दी भाषा में इन्जीनियरिंग की पढ़ाई कराने वाले देश का पहला विश्वविद्यालय बन गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, फिलहाल मैकेनिकल, सिविल और इलेक्ट्रिकल शाखाओं में इसकी शुरुआत की गई है।

इस विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. मोहन लाल छिपा ने बतायाः

“मैकेनिकल, सिविल और इलेक्ट्रिकल शाखाओं में डिग्री व डिप्लोमा कोर्सेज के लिए भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। हम बाद में इसकी कक्षाएं हिन्दी में शुरू करने जा रहे हैं।”

कुलपति डॉ. मोहन लाल का कहना है कि दुनिया के लगभग सभी विकसित देशों में विज्ञान की शिक्षा उन देशों की मातृभाषा में प्रदान की जाती है।

जापान, चीन, कोरिया, जर्मनी व इजराइल जैसे तकनीक संपन्न देशों में विज्ञान की शिक्षा मातृभाषा में देने का रिवाज है। यहां तक कि इन देशों में मेडिकल की शिक्षा भी मातृभाषा में दी जाती है।


Advertisement

कुलपति ने कहा कि अधिकतर भारतीयों की बोलचाल की भाषा हिन्दी है। यही वजह है कि छात्रों के लिए हिन्दी में ज्ञान हासिल करना आसान रहता है।

Kuldeep Rana/HTfile photo

यह पूछे जाने पर कि क्या हिन्दी माध्यम से इन्जीनियरिंग की पढ़ाई करने पर रोजगार हासिल होगा, कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन इस बात पर ध्यान केन्द्रित कर रहा है कि कोर्स समाप्त होने के बाद छात्रों को रोजगार मिले।

हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि इस स्थिति को एकबारगी बदला नहीं जा सकता है। उन्होंने कहा कि अंग्रेजी ने इस देश पर करीब 250 सालों तक राज किया है। हमें इस सोच को बदलना होगा कि विकास एकमात्र अंग्रेजी के माध्यम से ही हो सकता है।

फिलहाल विश्वविद्यालय इन्जीनियरिंग के सभी प्रभागों के लिए 30-30 सीट रखे हैं। अभी इन कोर्सेज को ऑल इंडिया काउंसिल ऑफ टेक्नीकल एजुकेशन,आईसीटीई से मंजूरी नहीं मिली है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement