PM मोदी पर फतवा जारी करने वाले मौलाना का गाड़ी से लाल बत्ती हटाने से इन्कार

author image
Updated on 10 May, 2017 at 3:11 pm

Advertisement

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर फतवा जारी करने वाले कोलकाता स्थित टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम ने अब लाल बत्ती के मामले में दबंगई दिखाई है। लाल बत्ती पर प्रतिबंध के बावजूद शाही इमाम मौलाना नुरुर रहमान इमाम बरकती लाल बत्ती के वाहन में चल रहे हैं। खास बात यह है कि बरकती का कहना है कि वह केन्द्र सरकार का कोई भी कानून मानने के लिए बाध्य नहीं हैं।

बरकती ने कहाः

“मैं शाही इमाम हूं और इसलिए मैं अदालत के आदेश के बावजूद लाल बत्ती नहीं छोडूंगा। मैं लाल बत्‍ती का इस्‍तेमाल करता रहूंगा, क्‍योंकि पूर्व ‘ब्रिटिश सरकार’ ने इसकी इजाजत दी थी।”


Advertisement

बरकती ने दावा किया है कि उन्हें पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लाल बत्ती के इस्तेमाल करने की इजाजत दे रखी है। मौलाना का यह भी कहना है कि पश्चिम बंगाल देश के अन्य हिस्सों से अलग है तथा यहां राज्य सरकार के बनाए गए नियमों के आधार पर कानून का राज चलता है, न कि केन्द्र सरकार के बनाए कानून के आधार पर।



इस बीच, भारतीय जनता पार्टी ने मौलाना नुरुर रहमान इमाम बरकती तथा राज्य की ममता बनर्जी सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। भाजपा ने पूछा है कि अगर मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी लाल बत्‍ती का इस्‍तेमाल नहीं कर सकतीं तो कैसे वह बरकती को करने दे सकती हैं?

भजपा ने पश्चिम बंगाल को अंधेर नगरी चौपट राजा सरीखा बताया है।

गौरतलब है कि केन्द्र सरकार ने वीआईपी कल्चर पर प्रहार करते हुए नेताओं की गाड़ियों की लाल बत्ती पर पाबंदी लगाई है। इस फैसले को 1 मई, 2017 से लागू किया गया है। नए नियमों के मुताबिक, अब पुलिस वैन, फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस के अलावा कोई भी लाल बत्ती का इस्तेमाल नहीं कर सकता।

जहां तक बरकती की बात है तो वह पहले भी विवादित बयानबाजी कर चुके हैं। वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर फतवा जारी कर चुके हैं, वहीं लाइव टीवी शो पर पाकिस्तानी मूल के कनाडियाई नागरिक तारेक फतेह को गर्दन काटने की धमकी दे चुके हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement