चुनाव आयोग लेकर आ रहा है ईवीएम ‘हैकाथन’, राजनीतिक दलों को खुली चुनौती

author image
Updated on 5 May, 2017 at 4:29 pm

Advertisement

चुनाव आयोग इस महीने के आखिर में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (EVMs) में टेम्परिंग को साबित करने के लिए ओपन चैलेंज (हैकाथन) का आयोजन करेगा। इसके पीछे चुनाव आयोग का मकसद ईवीएम पर उठ रहे सवालों को खत्म करना है।

evm

इस हैकाथन के जरिए चुनाव आयोग उन सभी लोगों का संदेह दूर करना चाहता है, जिन्होंने ईवीएम की विश्वसनीयता पर संदेह जताया है और चुनाव में इसके इस्तेमाल को लेकर आलोचना की है।

इस हैकाथन के माध्यम से चुनाव आयोग ने ईवीएम पर ऊँगली उठाने वालों को खुली चुनौती दी है कि कोई इसे हैक करके दिखाए। इस चुनौती में कोई भी हिस्सा ले सकेगा।

evm

उधर गड़बड़ी के आरोपों को लेकर चुनाव आयोग ने 12 मई को राजनितिक दलों के साथ मीटिंगभी रखी है। आयोग ने बताया कि इसके लिए 7 नेशनल और 49 स्टेट लेवल पार्टियों को बुलाया गया है।

2017 में उत्तर प्रदेश सहित पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के बाद आम आदमी पार्टी, बीएसपी और कांग्रेस के कुछ नेताओं समेत कई राजनीतिक दलों ने ईवीएम की विश्वसनीयता पर सवाल खड़े किए थे। इसी के जवाब में चुनाव आयोग ने यह कदम उठाया है।



evm

आपको बता दे कि 2009 में भी हैकाथन का आयोजन किया गया था, लेकिन उस समय कोई ईवीएम के साथ गड़बड़ी साबित नहीं कर पाया था।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement