प्रदूषण पर नियंत्रण की पहल है यह इको-फ्रेन्डली इलेक्ट्रिक स्कूटर; GPRS, GPS से है लैस।

author image
Updated on 4 Jan, 2016 at 3:03 pm

Advertisement

दिल्ली की हवा कितनी प्रदूषित यह हम सब जानते हैं। यहां सांस लेना दूभर होता जा रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की रिपोर्ट का कहना है कि दिल्ली विश्व के प्रदूषित शहरों में से एक है। नए साल में प्रदूषण की रोकथाम के लिए दिल्ली सरकार ने ऑड-इवन का फार्मूला भी लागू किया है।

भारत में जो प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा है, उसका कारण यहां चलने वाली गाड़ियां, औद्योगिक धुंआ, कूड़े-कचरे का जलना है। इसमें कोई शक नहीं है कि बढ़ता प्रदूषण लोगों के स्वास्थ्य को नुकसान पंहुचा रहा है। एक समाचार स्रोत के अनुसार, हर दिन दिल्ली की सड़कों पर लगभग 1400 नई गाड़ियां उतर रही हैं।

इस बात को ध्यान में रखकर IIT मद्रास में साथ पढऩे वाले तरुण मेहता और स्वप्निल जैन ने स्मार्ट और इको-फ्रेंडली दोपहिया वाहन बनाने का निर्णय किया। दोनों ने साथ मिलकर ‘ईथर एनर्जी’ के नाम से अपनी स्टार्टअप कंपनी शुरू की है।

कंपनी की योजना भारत के पहले स्मार्ट इलेक्ट्रिक स्कूटर को 2016 के मध्य में पेश करने की है।

भारत में इलेक्ट्रिक स्कूटर में लेड की बैटरियों का इस्तेमाल किया जाता है, जिसकी गति अधिकतम 25 किलोमीटर प्रति घंटा की होती है। अभी के आम इलेक्ट्रिक स्कूटर चार्ज होने में काफी वक़्त लगाते हैं।

इसी बात को ध्यान में रखकर मेहता और जैन की कंपनी ईथर एनर्जी एक ऐसा इलेक्ट्रिक स्कूटर बना रही है, जिसकी गति 75 किमी प्रति घंटे तक की होगी और बैटरी चार्ज होने में कम समय लेगी। ईथर एनर्जी ने अपने इलेक्ट्रिक स्कूटर में लीथियम आयन बैटरी पैक का प्रयोग किया है।

जहां साधारण स्कूटर में लेड एसिड बैटरीज का प्रयोग होता है, जिस कारण यह बैटरीज दो साल में या 5,000 किलोमीटर चलने के बाद बेकार हो जाती हैं। वहीं ईथर एनर्जी अपने स्कूटर्स को इस तरह से तैयार कर रहा है कि यह 50,000 किलोमीटर तक चलेगा।


Advertisement

जहां बाजार में आम इलेक्ट्रिक स्कूटर 35,000 तक मिल जाता है, वहीँ इस स्मार्ट इलेक्ट्रिक स्कूटर की कीमत 60,000 से 90,000 के बीच में हो सकती है।

इस प्रोजेक्ट में कंपनियों ने निवेश किया है। मसलन केंद्र का प्रौद्योगिकी विकास बोर्ड, फ्लिपकार्ट के सचिन बंसल ने 10 लाख डॉलर, तो वहीं टाइगर ग्लोबल ने 1.2 करोड़ डॉलर का निवेश किया है।

ईथर एनर्जी नाम की इस कंपनी में करीबन 70 लोग कार्यरत है।

स्मार्ट स्कूटर की एक महत्वपूर्ण खूबी यह है कि इनमें जीपीआरएस या जीपीएस की सुविधा होगी। जिसका प्रयोग कर गूगल मैप का इस्तेमाल किया जा सकेगा। यह पहली बार होगा जब किसी टू-व्हीलर वाहन में यह सुविधा उपलब्ध होगी।

आधुनिक सुविधाओं से लैस, अच्छी माइलेज और इंजन के साथ यह प्रोडक्ट ग्राहकों की पसंद बन सकता है।

टू-व्हीलर वाहन के बाजार में भारत, चीन के बाद दूसरे नंबर पर है। दुनिया भर में इलेक्ट्रिक वाहनों का बाजार बढ़ता हुआ नज़र आ रहा है।

भारत सरकार ने 2013 में नेशनल इलेक्ट्रिक मोबिलिटी प्लान 2020 लॉन्च किया था, जिसका मकसद 2020 तक देश में 50 से 70 लाख इलेक्ट्रिक वाहनों को उपयोग में लाने का है।

ईथर एनर्जी के स्मार्ट इलेक्ट्रिक स्कूटर की पेशकश को सरकार की इस योजना की तरफ बढ़ता हुआ एक कदम कह सकते है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement