साढ़े 6 हजार से अधिक मर्दों को उनकी बीवियों ने जमकर पीटा, लेनी पड़ी पुलिस की मदद

Updated on 20 Nov, 2017 at 1:15 pm

Advertisement

जब भी घरेलू हिंसा की बात आती है तो हमारे जेहन में जो तस्वीर उभरती है, वह महिलाओं पर अत्याचार को लेकर होती है। हमारे समाज में आमतौर पर यह मान लिया गया है कि पुरुष का व्यवहार महिलाओं के प्रति ठीक नहीं होता। पुरुष ही उनके साथ हिंसा करते हैं। यह सच भी है कि अधिकतर मामलों में महिलाएं ही प्रताड़ना और शिकायत को लेकर पुलिस के पास पहुंचती रही हैं। हालांकि, यह तस्वीर का महज एक पहलू है। अब तस्वीर का दूसरा पहलू भी सामने आया है।

जी हां, अब पुरुष भी महिलाओं की शिकायत लेकर पुलिस के पास पहुंच रहे हैं। उत्तर प्रदेश में साढ़े छह हजार से अधिक पुरुषों अपनी हिंसक पत्नियों से बचने के लिए पुलिस के पास गुहार लगाई है।

blogspot
सांकेतिक तस्वीर।

दरअसल, करीब साल भर पहले उत्तर प्रदेश में डायल 100 की सेवा शुरू की गई थी।

cityspidey
उत्तर प्रदेश में डायल 100 की सेवा करीब एक साल पहले शुरू की गई थी।


Advertisement

इस नंबर पर साल भर में  6,646 पुरुषों ने फोन करके हिंसा की दास्तान की रिपोर्ट दर्ज करवाई और पुलिस से मदद की गुहार लगाई। उत्तर प्रदेश पुलिस का कहना है कि एक साल में 7 लाख के करीब घरेलू हिंसा की शिकायतें दर्ज हुई हैं। 100 नंबर पर पिछले एक साल में करीब 43 लाख शिकायतें दर्ज की गईं हैं। अब उत्तर प्रदेश पुलिस इन शिकायतों का विश्लेषण कर रही है।

विश्लेषण में दिलचस्प यह जानना रहा है कि करीब 6500 से अधिक पुरुषों ने अपनी शिकायत में कहा है कि उन्हें उनकी बीवियों ने पीटा। हालांकि, यह भी एक तथ्य है कि 100 नंबर पर फोन करने वालों में अधिकतर महिलाएं ही रहीं। आंकड़ों के मुताबिक, पिछले एक साल में 1.53 लाख महिलाएं ने 100 नंबर पर फोन करके पुलिस से मदद मांगी। इस आधार पर देखें तो प्रतिदिन करीब 419 महिलाओं ने पुलिस को फोन कर मदद की गुहार लगाई थी।

आंकड़ों के मुताबिक, घरेलू हिंसा की शिकायतें सबसे अधिक शहरी इलाकों में देखी गई हैं। सबसे ज्यादा घरेलू हिंसा की शिकायतें लखनऊ, गोरखपुर, कानपुर, इलाहाबाद और आगरा से मिलीं।

हालांकि, पुरुषों द्वारा बड़ी संख्या में महिलाओं के खिलाफ की गई शिकायत समाज में बदलते समीरकरण की तरफ इशारा करते हैं।

रेखांकनः संतोष मिश्र

बताया गया है कि उत्तर प्रदेश में सर्वाधिक घरेलू हिंसा की शिकायतें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इलाके गोरखपुर से आईं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement