डोकलाम में सिर्फ 150 मीटर पीछे हटी हैं भारत और चीन की सेनाएं !

author image
Updated on 7 Sep, 2017 at 2:55 pm

Advertisement

डोकलाम विवाद पर पटाक्षेप हो गया है। इस विवाद के समापन के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चीन में आयोजित होने वाले ब्रिक्स सम्मेलन का का दौरा भी कर चुके हैं। वहां उनकी मुलाकात चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ दोस्ताना माहौल में हुई। डोकलाम में सीमा विवाद पर फिलहाल दोनों देश चुप्पी साधे हुए हैं, लेकिन अब इससे जुड़े नए तथ्य सामने आए हैं।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि डोकलाम में दोनों देशों की सेनाएं भले ही अपने स्थान से हट गई हैं, लेकिन वहां उनकी मौजूदगी बनी हुई है। दरअसल, दोनों सेनाएं अपनी-अपनी दिशा में 150-150 मीटर पीछे हटी हैं और इस तरह वे 300 मीटर की दूरी पर आमने-सामने हैं।

इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी रिपोर्ट अलग-अलग सूत्रों का हवाला दिया हैः

“28 अगस्त को जारी भारतीय विदेश मंत्रालय के बयान के अनुरूप ही दोनों देशों की सेनाएं, उनके टेंट और सड़क निर्माण के सामान विवादित जगह से पीछे हट गये हैं, लेकिन केवल 150 मीटर के करीब।”


Advertisement

इस रिपोर्ट के मुताबिक, इस मुद्दे पर दोनों देश के बीच कूटनीतिक बातचीत बीजिंग में हुई थी। इस दौरान भारतीय दल का नेतृत्व चीन में भारत के राजदूत विजय गोखले कर रहे थे। उन्हें भारत सरकार के उच्च पदस्थ अधिकारी संपर्क में थे। वहीं, भारतीय सेना मुख्यालय से भी तारतम्य बनाए रखा गया था। आखिरी प्रस्ताव 26 अगस्त को भेजा गया था और दोनों देशों में सैनिकों को पीछे करने पर सहमति बन गई।

इसी क्रम में 28 अगस्त को पहले सैनिक हटे, फिर टेंट और अंत में बुलडोजर।

डोकलाम पर जो तस्वीर बन रही है उसके मुताबिक दोनों सेनाओं की मौजूदा स्थिति अब भी अस्थायी है और ये पीछे हटेंगी। धीरे-धीरे दोनों सेनाएं 16 जून की स्थिति में आ जाएंगी और वहीं तैनात रहेंगी।

गौरतलब है कि डोकलाम में सड़क बना रहे चीनी सैनिकों को भारतीय सैनिकों ने 16 जून को रोक दिया था, जिसके बाद दोनों देशों के बीच विवाद शुरू हो गया था।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement