जानबूझकर गंदी लिखावट इसलिए लिखते हैं डॉक्टर, खुद बताया सच

author image
Updated on 24 May, 2018 at 12:19 pm

Advertisement

डॉक्टरों की लिखावट को समझ पाना कभी-कभी इतना दूभर हो जाता है कि पर्ची पर आंखें गढ़ाने के बावजूद भी एक-दो अक्षर के अलावा कुछ समझ नहीं आता। इनकी लिखावट को जो समझ ले, उसे इस दुनिया के ज्ञानियों में शामिल किया जाए तो गलत नहीं होगा।

इनकी लिखावट को मेडिकल स्टोर वाले ही समझ पाते हैं, लेकिन कभी-कभी इनकी लिखावट इतनी खराब होती है कि मेडिकल वाले डॉक्टर द्वारा लिखे पहले अक्षर के मुताबित ही दवाईयां दे देते हैं, जिसके कारण बहुत बार गलत दवाई दे दी जाती है।

 

डॉक्टर की गंदी लिखावट (doctor handwriting)

cheatsheet


Advertisement

 

आपके दिमाग में भी यह बात आती होगी कि आखिर इतने पढ़े-लिखे ये डॉक्टर इतनी गन्दी लिखावट में दवाई की पर्ची क्यों लिखते हैं?

 

इसके पीछे का जो कारण है वो मजाकिया नहीं, बल्कि थोडा संजीदा है। एक सर्वे रिपोर्ट में जब डॉक्टरों से उनकी इस गन्दी लिखावट का कारण पूछा गया तो उनका जवाब एक ही जैसा रहा।

 



 

डॉक्टरों का यही कहना रहा कि डॉक्टर बनने के लिए काफी सालों का परिश्रम लगता है। काफी कम समय में उन्हें कई परीक्षाएं देनी होती हैं। इसके चलते वह तेजी से लिखने लगते हैं। यही कारण है कि उनकी हैंड राइटिंग अजीब होती है।

 

 

यहां आपको ये भी बताना जरूरी है  कि हर साल डॉक्टर्स की गन्दी हैंडराइटिंग की वजह से लगभग 7 हजार लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ती है। डॉक्टर्स जो हैंड राइटिंग लिखते है वो मेडिकल स्टोर वाले को समझ में नहीं आती है। इस वजह से गलत दवाइयां मरीजों को दे दी जाती हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement