Advertisement

डायनासोर महज कल्पना नहीं हैं- अब 110 मिलियन साल पुराना जीवाश्म मिला

6:06 pm 7 Aug, 2017

Advertisement

डायनासोर के अस्तित्व पर लंबे समय से बहस चलती आ रही है। कभी पृथ्वी का सबसे बड़ा जीव होने का दर्जा हासिल करने वाले डायनासोर पर कई फिल्में बन चुकी हैं, जो सुपरहिट भी रही हैं। डायनासोर के अस्तित्व पर पर काम करने वाले वैज्ञानिक दावा करते हैं कि लाखों साल पहले पृथ्वी पर इस जीव का अस्तित्व रहा था। हालांकि, ऐसे लोगों की भी कमी नहीं है जिन्हें लगता है कि ये बातें महज बकवास हैं। हालांकि, जो लोग इस पूरे वाकये को बकवास समझते हैं, उनके लिए इस पर अलग तरीके से सोचने का वक्त आ गया है।

दरअसल, कनाडा में नोडासौर नामक एक डायनासोर की प्रजाति का पता चला है। माना जाता है कि डायनासोर की यह प्रजाति 110 मिलियन साल पहले अस्तित्व में थी। फिलहाल, कनाडा के अल्बर्टा इलाके में नोडासौर के जीवाश्म मिले हैं।


Advertisement

इस जीवाश्म का पता पहली बार वर्ष 2011 में चला था, जब अल्बर्टा की एक एनर्जी कंपनी में काम करने वाले कुछ मजदूर तेल के लिए खुदाई कर रहे थे। इन मजदूरों को खुदाई के दौरान अखरोट जैसे रंग की पसलियां दिखाई दी। इस तरह की चीज मजदूरों ने अपने जीवनकाल में कभी नहीं देखी थी। हालांकि, तब तक मजदूरों को नहीं पता था कि उन्होंने एक डायनासोर के जीवाश्म को खोज निकाला है।

अब इस जीवाश्म को कनाडा के रॉयल टैरल म्यूजियम में रखा गया है।

नोडासौर प्रजाति के डायनासोर करीब 5.5 मीटर या उससे भी अधिक लंबे होते थे। अनुमान के मुताबिक, खुदाई में मिले जीवाश्म वाले डायनासोर का वजन करीब 1300 किलोग्राम रहा होगा।

इसकी खूबसूरती की वजह से इसे डायनासोर का मोनालिसा भी कहा गया है।

इस पर काम कर रहे वैज्ञानिकों को कुछ चौंकाने वाली जानकारियां मिली हैं। माना जा रहा है कि यह शाकाहारी डायनासोर किसी मांसाहारी डायनासोर का शिकार बना होगा।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement