एम एस धोनी के कैच की दुनियाभर में हो रही चर्चा, आलोचकों के मुंह पर लग गया ताला

3:40 pm 28 Oct, 2018

Advertisement

बीते कुछ समय से टीम इंडिया के पूर्व कप्तान एम.एस धोनी की परफॉर्मेंस की कुछ लोग काफी आलोचना कर रहे थे। लेकिन एक बार फिर माही ने अपनी फुर्ती से अलोचकों का मुंह बंद कर दिया है। भारत-वेस्टइंडीज के बीच पुणे में खेले जा रहे तीसरे वन-डे में धोनी ने एस ऐसा कैच लपका जिसकी तारीफ अब हर कहीं हो रही है। टी-20 फॉर्मेट से बाहर होने के बाद धोनी ने एक बार फिर यह साबित कर दिया है कि 37 साल की उम्र में भी वो फिटनेस के मामले में अभी भी वह कई प्लेयर्स से बेहतर हैं। धोनी ने इस मैच में इस सदी का सबसे बेहतरीन कैच लपक कर सबको हैरान कर दिया।

 

 


Advertisement

दरअसल, मैच के छठे ओवर की पांचवी गेंद पर हेमराज चंद्रपॉल ने जसप्रीत बुमराह की गेंद पर एक बड़ा शॉट खेलने की कोशिश की।

हेमराज ने गेंद को हुक करने की कोशिश की लेकिन वह पूरी तरह गेंद को कनेक्ट नहीं कर सके। गेंद हवा में उस जगह थी, जहां कोई  फील्डर मौजूद नहीं था। किसी के लिए भी इस कैच को ले पाना लगभग नामुमकिन सा था, एक समय तो बेट्समैन को भी ऐसी ही लगा कि इस कैच को कोई नहीं लपक सकेगा।

 

 



लेकिन इस बीच विकेट के पीछे खड़े एम.एस धोनी चीते की रफ्तार से गेंद की तरफ दौड़े और फुल लैंथ ड्राइव मारी। देखते ही देखते धोनी ने इस नामुमकिन से कैच को हवा में लपक लिया। धोनी की इस फुर्ती को देख दर्शकों के साथ साथ मैदान पर खड़े खिलाड़ी भी सन्न रह गए। धोनी की इस फुर्ती ने बल्लेबाज के हौसले को पस्त कर दिया। लेकिन यह पहला मौका नहीं है जब धोनी ने इस तरह का कैच लिया है, इससे पहले भी साल 2017 में मोहाली में श्रीलंका के खिलाफ खेले गए दूसरे वनडे में धोनी ने इसी तरह का शानदार कैच लपककर सबको हैरान कर दिया था।

 

 

धोनी के इस शानदार कैच को देख अब यह सवाल उठने लगे है कि क्या वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए धोनी को टी-20 टीम से बाहर करना क्या सही फैसला  है। दरअसल,  वेस्टइंडीज और इस साल के अंत में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाली दोनों टी-20 सीरीज में धोनी का नाम नहीं था।

 


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement