माइक में कैद हुई ये रिकॉर्डिंग सबूत है कि आज भी ‘धोनी की कप्तानी’ का जलवा कायम है

author image
Updated on 28 Oct, 2017 at 5:13 pm

Advertisement

भारत के सफलतम कप्तानों में गिने जाने वाले महेंद्र सिंह धोनी आज जिस मुकाम पर हैं, उन्हें किसी विशेष परिचय की जरूरत नहीं है। एक मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाले माही आज अपनी मेहनत के बलबूते पर इस शिखर पर हैं। अपने करियर के पीक पर उन्होंने जिस तरह से कप्तानी को छोड़ बतौर खिलाड़ी टीम में शामिल होने का निर्णय लिया और भविष्य को ध्यान में रखते हुए भारतीय क्रिकेट टीम की कमान विराट कोहली के हाथों में सौंपी, यह उन्हें महानतम खिलाडियों की श्रेणी में लाकर खड़ा करता है।

क्रिकेट इतिहास में यकीनन महेंद्र सिंह धोनी अब तक के बेस्ट विकेटकीपर हैं। उनकी स्टंपिंग से बल्लेबाज़ों का बचना नामुमकिन होता है। विकेट के पीछे धोनी अक्सर साथी खिलाड़ियों को निर्देश देते रहते हैं। भले ही टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ही क्यों न हों, लेकिन धोनी जरूरत पड़ने पर टीम को और कप्तान कोहली को मैदान पर गाइड करने से पीछे नहीं हटते।

 

हाल ही मे इसका नजारा भारत खेलने आई न्यूजीलैंड टीम के खिलाफ एक मैच में दिखा। पुणे वनडे में टीम इंडिया ने जबरदस्त पलटवार करते हुए कीवी टीम को 6 विकेट से शिकस्त दी। वैसे तो इस जीत में शिखर धवन, दिनेश कार्तिक के अर्धशतक और भुवनेश्वर कुमार के तीन विकेटों का अहम रोल रहा लेकिन जीत के पीछे धोनी के कई सालों के अनुभव का भी अहम योगदान रहा।

धोनी हमेशा की तरह पुणे में भी विकेट के पीछे से ‘कप्तानी’ करते नजर आए। धोनी भले ही टीम इंडिया की कप्तानी छोड़ चुके हों, लेकिन वो अब भी विकेट के पीछे से पहले की तरह ही फील्डिंग सेट करवाते हुए अक्सर नजर आते हैं, कुछ ऐसा ही उन्होंने पुणे वनडे मैच के दौरान भी किया।

वह लगातार अपनी टीम के खिलाड़ियों को सलाह देते नजर आए और कप्तान विराट कोहली को भी उन्होंने मजेदार बातें कही । यह सभी बातें स्टंप में लगे माइक पर साफ सुनाई दे रही थी।

केदार जाधव की गेंदबाजी के दौरान धोनी लगातार बोल रहे थेः ”बहुत बढ़िया केडू अच्छा डाल रहा है।”

 

क्या आपको केदार जाधव का निक नाम मालूम है? धोनी केदार जाधव को वो केड़ू कहकर बुलाते हैं। ये सब स्टंप माइक में कैद हुआ। उन्होंने कहा- “केड़ू ऐसा ही डाल इसको, हर तीसरा बॉल ये ही रखना।”


Advertisement

 

धोनी ने फील्डिंग सेट करवाने के लिए भी कोहली को कहा, लेकिन अपने ही अंदाज में। वो बोले, ” चीकू, दो-तीन जन (फील्डरों) को इधर छोड़ दे।”

 

यहीं नहीं, जब मैक्सवेल ने कुलदीप के एक ओवर में तीन छक्के और एक चौका मारा, तब धोनी ने फिर युवा गेंदबाज को हिदायत दी, “स्टंप पे मत डाल…अरे बाहर डाल, इसको इतना आगे नहीं।”

kuldeep-yadav

फिर चहल की बारी आई। धोनी ने उनसे कहा,”तू भी नहीं सुनता है क्या…ऐसे, ऐसे डालो… और फिर क्या, चहल ने मैक्सवेल को वाइड बॉल डाली और मैक्सवेल लान्ग ऑन पर अपना कैच दे बैठें।

 

इस विडियो में देखें किस तरह से धोनी अपने साथी खिलाडियों को गाइड कर रहे हैं:

बुधवार को खेले गए मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए न्यूजीलैंड ने टीम इंडिया को जीत के लिए 231 रनों का लक्ष्य दिया। इसके जवाब में भारतीय टीम ने 46 ओवर में ही 232 रन बनाते हुए 6 विकेट से आसान जीत दर्ज कर ली। तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार को मैन ऑफ मैच चुना गया, जिन्होंने न्यूजीलैंड के तीन शीर्ष बल्लेबाजों को चलता किया था। अब दोनों टीमों के बीच तीसरा और आखिरी मैच रविवार यानी 29 अक्टूबर को होना है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement