बकरीद पर ढाका की गलियों में बहे खून की ये तस्वीरें आपको विचलित कर सकती हैं

author image
Updated on 14 Sep, 2016 at 12:20 pm

Advertisement

मंगलवार को मनाए गए मुसलमानों के त्योहार बकरीद का वीभत्स रूप देखने को मिला। बांग्लादेश की राजधानी ढाका में इस दिन सुबह से ही रुक-रुक कर बारिश हो रही थी।

कुर्बानी दिए गए पशुओं का खून बारिश के पानी में मिलकर गलियों में बहने लगा। सड़कों पर एक भयावह दृश्य पैदा हो गया और लगा मानो खून की नदियां बह रही हो।

ढाका शहर में पशुओं की कुर्बानी के लिए 496 से 504 स्थान सुनिश्चित किए गए थे।

बकरीद के मौके पर ढाका के लोग अपनी सुविधानुसार सड़कों पर खुले में पशुओं की कुर्बानी देना पसंद करते हैं। धीमी-धीमी वर्षा होने के बावजूद लोग मस्जिदों में पहुंचे और वहां नमाज पढने के बाद रस्म के अनुसार बकरों की कुर्बानी दी। देखते ही देखते अलग-अलग स्थानों पर जमा खून बारिश के पानी के साथ मिलकर गलियों में भर गया।

thedailystar

thedailystar


Advertisement

स्थानीय अखबार ढाका ट्रिब्यून ने इस दृश्य को भयावह और परेशान करने वाला करार दिया है। हालात इतने बदतर थे, पानी में मरे हुए जानवरों के शरीर के अंश भी तैर रहे थे और लोगों को इस लाल नदी के बीच से गुजरना पड़ रहा था।

इस अखबार की रिपोर्ट में कहा गया है कि कुर्बानी के लिए चिह्नित स्थानों में मोहम्मदपुर, मीरपुर, शियामोली, उत्तरा, ढाका शामिल थे। लेकिन या तो लोगों को इसकी जानकारी नहीं थी, या सरकारी आदेश की सीधे तौर पर अवमानना की गई थी।

गौरतलब है कि ढाका शहर में लंबे समय से जलभराव की समस्या रही है, लेकिन इस बार जो कुछ हुआ, वह वाकई एक भयावह दृश्य स्थापित करता है।

बांग्लादेश में इन दिनों अल्पसंख्यकों, धर्मनिरपेक्ष ब्लॉगरों, लेखकों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं पर लगातार हमले हो रहे हैं। इस्लामिक चरमपंथियों ने हिन्दुओं और धर्मनिरपेक्षता के समर्थकों में भय का माहौल बना रखा है।

खुलेआम सड़क पर धारदार हथियारों से हत्या की घटनाएं आम हैं। ऐसे में बकरीद के अवसर पर मुस्लिम समाज के कुर्बानी का यह चरित्र दुनिया भर में चर्चा का विषय बना हुआ है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement