Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

रियो पैरालंपिक्स में दिव्यांग देवेंद्र झाझरिया ने भारत को दिलाया स्वर्ण पदक

Published on 14 September, 2016 at 1:19 pm By

भारतीय पैरा एथलीट देवेंद्र झाझरिया ने इतिहास रचते हुए रियो पैरालंपिक्स में भाला फेंक प्रतियोगिता में देश के लिए स्वर्ण पदक जीता है।

पैरालंपिक में यह उनका दूसरा स्वर्ण पदक है। इससे पहले 2004 के एथेंस पैरालंपिक में देवेंद्र ने स्वर्ण पदक अपने नाम किया था।

देवेंद्र ने अपना ही रिकॉर्ड तोड़ते हुए यह पदक हासिल किया है। उन्होंने 63.97 मीटर दूर भाला फेंक कर नया विश्व रिकॉर्ड बनाया। देवेंद्र का पिछला रिकार्ड 62.15 मीटर का था जो उन्होंने एथेंस ओलंपिक में बनाया था।

विश्व रैंकिंग में तीसरी वरीयता प्राप्त देवेंद्र एकमात्र ऐसे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं जिन्होंने दो पैरालम्पिक खेलों में स्वर्ण पदक अपने नाम किया है।



राजस्थान में जन्मे देवेंद्र आठ साल की उम्र में पेड़ पर चढते हुए बिजली के तारों की चपेट में आ गए थे। जिस कारण उन्हें अपना बायां हाथ गंवाना पड़ा। इसके बावजूद खेल के प्रति उनका जुनून कम नहीं हुआ। उन्होंने 2004 में अर्जुन और 2012 में पद्मश्री पुरस्कार जीता। वह यह सम्मान पाने वाले पहले पैरालंपियन बने।


Advertisement

इस स्वर्ण पदक के साथ ही रियो पैरालंपिक में भारत के कुल पदकों की संख्या 4 हो गई है, जिसमें 2 स्वर्ण, एक रजत और एक कांस्य है। देवेंद्र से पहले हाई जम्प में मरियप्पन थंगावेलु ने गोल्ड और वरुण सिंह भाटी ने कांस्य पदक जीता। दीपा मलिक ने एक दिन पहले शॉटपुट में रजत जीता था।

Advertisement

नई कहानियां

जानिए क्या है वास्तु शास्त्र, इसका महत्व और इतिहास

जानिए क्या है वास्तु शास्त्र, इसका महत्व और इतिहास


जामिनी रॉय: एक ऐसा महान चित्रकार, जिन्होंने चित्रकारी को दिया नया आयाम

जामिनी रॉय: एक ऐसा महान चित्रकार, जिन्होंने चित्रकारी को दिया नया आयाम


पाक पीएम इमरान खान ने विश किया हैप्पी होली, ट्विटर पर लोगों ने लगा दी लताड़

पाक पीएम इमरान खान ने विश किया हैप्पी होली, ट्विटर पर लोगों ने लगा दी लताड़


होली पर रंगों से ऐसे करें अपनी त्वचा की हिफ़ाज़त, अपनाएं ये घरेलू तरीके

होली पर रंगों से ऐसे करें अपनी त्वचा की हिफ़ाज़त, अपनाएं ये घरेलू तरीके


यहां होली में जमकर होती है पुरुषों की धुनाई, जानिए क्यों?

यहां होली में जमकर होती है पुरुषों की धुनाई, जानिए क्यों?


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

और पढ़ें News

नेट पर पॉप्युलर