दिल्ली मेट्रो बनी दुनिया की पहली ग्रीन मेट्रो, प्रदूषण कम करने में नंबर वन

9:51 pm 29 Jul, 2017

Advertisement

दिल्ली मेट्रो दुनिया की सबसे पहली ग्रीन मेट्रो ट्रेन सेवा बन गई है। दरअसल, दिल्ली मेट्रो बड़े पैमाने पर ऊर्जा व प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण कर रही है। मेट्रो के स्टेशन्स, डिपो व आवासीय परिसरों को इस तरह डिजाइन किया गया है कि ऊर्जा व जल का संरक्षण हो सके। साथ ही दिल्ली मेट्रो ने कार्बन डाई ऑक्साइड के उत्सर्जन को 5.72 लाख टन सालाना कम किया है। इसके अलावा द्वारका सेक्टर-21 मेट्रो स्टेशन 500 किलोवाट सौर ऊर्जा का उत्पादन करता है।

शुक्रवार को आयोजित एक कार्यक्रम में इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल ने दिल्ली मेट्रो को ग्रीन प्रमाणपत्र प्रदान किया। ऐसा पहली बार हुआ है जब दुनिया की किसी मेट्रो ट्रेन सेवा को ग्रीन प्रमाणपत्र मिला हो।

यहां तक कि हांगकांग और सिंगापुर के मेट्रो ग्रीन सिस्टम के मामले में दिल्ली मेट्रो से काफी पीछे हैं।


Advertisement

मीडिया रिपोर्ट्स में दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) के प्रबंध निदेशक मंगू सिंह के हवाले से बताया गया है कि देश में बिजली की खपत 700 फीसदी बढ़ी है। बिजली की खपत वर्ष 2030 तक बढ़कर तीन गुना हो जाएगी। जहां तक मेट्रो की बात है तो इसमें अधिक बिजली की खपत ट्रेनों के परिचालन में होती है।

इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल के अध्यक्ष डॉ. प्रेम सी जैन के मुताबिक, भारत में 300 से अधिक मेट्रो स्टेशन ग्रीन बिल्डिंग के मानकों को पूरा करते हैं। इसमें भी डीएमआरसी दुनिया की पहली ग्रीन मेट्रो है, जिसके न केवल स्टेशन बल्कि आवासीय परिसर भी ग्रीन सिस्टम पर खरे उतरते हैं।

बताया गया है कि फेज तीन की नई मेट्रो ट्रेनें 40 फीसद बिजली बचाएगी। साथ ही सभी नए एलिवेटेड मेट्रो स्टेशनों पर वर्षा जल संरक्षण की सुविधा होगी।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement