दिल्ली मेट्रो में खोया पर्स, 11 दिन बाद डाक से मिला

Updated on 4 Sep, 2018 at 2:04 am

Advertisement

किसी भी चीज के खोने और इसे फिर से पाने की कई कहानियां हैं। पब्लिक प्लेस पर हमें अपने निजी सामान को लेकर ऐहतियात बरतनी होती है। इसकी वजह यह है कि एक बार अगर सामान गुम हो जाए तो फिर इसके मिलने की संभावना बेहद कम होती है। यही सच भी है।

 

 


Advertisement

हालांकि, हमारे बीच ऐसे कुछ खुशकिस्मत लोग भी होते हैं, जिनका सामान अगर गुम हो जाए तो उन्हें मिल भी जाता है।

 

 

दिल्ली में रहने वाले गुरप्रीत सिंह ऐसे ही लोगों में से एक हैं। गुरप्रीत का पर्स गुम हो गया, लेकिन 11 दिन बाद उन्हें यह पर्स सही-सलामत मिल गया है।

 

 

24-साल के गुरप्रीत ने अपना पर्स दिल्ली मेट्रो में खोया था। हालांकि, उन्हें यह आशा कतई नहीं थी कि उन्हें यह पर्स वापस मिल सकेगा, लेकिन जो कुछ भी हुआ वह उनकी उम्मीदों के बिपरीत था।

 



 

दरअसल, जरूरी डॉक्युमेन्ट्स और कुछ पैसों से भरा हुआ यह पर्स सिद्धार्थ मेहता नामक एक व्यक्ति को मिला, जिन्होंने इसे गुरप्रीत को इसे डाक के जरिए भेज दिया।

गुरप्रीत ने अपने फेसबुक पोस्ट के जरिए इस घटना की जानकारी दी है।

 

 

सिद्धार्थ ने गुरप्रीत को न केवल पर्स व इसमें मौजूद सामान वापस कर दिया, बल्कि एक चिट्ठी भी लिखी, जिसमें पूरे डॉक्युमेन्ट्स और रुपए की सूची थी।

 

 

गुरप्रीत को यह डाक 26 मार्च को मिली है।

आज के दौर में जब यह समझा जाता है कि मानवता मर चुकी है, किसी को किसी की परवाह नहीं है। ऐसे में सिद्धार्थ मेहता ने जो कुछ भी किया है, वह वाकई काबिले-तारीफ है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement