दिल्ली के सरकारी अस्पतालों की दयनीय हालत, सिलेंडर के सहारे है मरीजों की जिंदगी

author image
5:52 pm 13 Dec, 2016

Advertisement

देश की राजधानी दिल्ली से जो खबर आ रही है वो स्वास्थ्य संबंधी सुविधाओं की पोल खोलती है। दिल्ली के सबसे बड़े अस्पतालों में से एक लोकनायक अस्पताल में वेंटिलेटर नहीं होने के कारण एक मरीज की मौत हो गई।

इस खबर के मीडिया में आने के बाद दिल्ली सरकार ने 125 नए वेंटिलेटर खरीदने का दावा किया है।दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने ट्वीट किया कि 125 नए वेंटिलेटर खरीदे गए हैं, जबकि पहले से 80 मौजूद हैं। 15 से 20 दिनों में इन्हें लगा दिया जाएगा।

अस्पताल के हालात इतने बुरे हैं कि वेंटिलेटर नहीं होने के कारण कई मरीजों को सर्जरी के बाद अंबु-बैग (मैनुअल रिससाइटैशन डिवाइस) पर रखा गया।

दिल्ली के सरकारी अस्पताल इस समय वेंटिलेटर व जीवन रक्षक उपकरणों की कमी से जूझ रहे हैं। अस्पतालों में गिरती सुविधाओं का अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि 10,000 बेड पर 80 वेंटिलेटर ही उपलब्ध है।


Advertisement

hospital

लोक नायक अस्पताल में सुविधाओं की कमी के कारण एक मरीज की मौत की घटना पर केजरीवाल ने स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन को ट्विटर पर ही फटकार लगाते हुए कहा कि यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा कि कोई मरीज वेंटिलेटर की सुविधा ना मिलने से मर जाए।

jain

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन catchnews

साभार: SUNO

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement