मायावती को अपशब्द कहने वाले दयाशंकर सिंह को 14 दिन की पुलिस हिरासत

author image
Updated on 30 Jul, 2016 at 12:28 pm

Advertisement

मायावती को अपशब्द कहने वाले पूर्व भाजपा नेता दयाशंकर सिंह को 14 दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है।  दयाशंकर को शुक्रवार को बिहार के बक्सर जिले से गिरफ्तार करने के बाद मऊ कोर्ट में पेश किया गया था। वहां से उन्हें जेल भेज दिया गया।

वहीं, दूसरी तरफ बसपा के राष्ट्रीय महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी के काफिले पर आगरा में पथराव की खबर है। नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने दयाशंकर को जवाब देते हुए उनकी पत्नी और बेटी को अपशब्द कहे थे।

दयाशंकर ने दी मुख्यमंत्री को खुलेआम चुनौती

गिरफ्तारी के बाद दयाशंकर ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को चुनौती देते हुए कहा है कि बसपा के राष्ट्रीय महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी को भी गिरफ्तार किया जाए। गौरतलब है कि लगातार मिल रही धमकियों और गालियों की वजह से दयाशंकर की पत्नी ने नसीमुद्दीन और मायावती के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करा रखी है।

मायावती को अपशब्द कहने के बाद दयाशंकर पिछले कई दिनों से फरार चल रहे थे। इसी बीच, उन्होंने झारखंड के देवघर में बाबा वैद्यनाथ के दर्शन भी किए।

उनका यह फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था।


Advertisement

दयाशंकर सिंह ने कहा थाः

“मायावती टिकट बेचती हैं। वह इतनी बड़ी नेता हैं, तीन बार सूबे की सीएम रही हैं, लेकिन वह उन्हें टिकट देती हैं, जो उन्हें 1 करोड़ रुपए देने को राजी होता है। अगर कोई 2 करोड़ देने को तैयार हो जाता है, तो वो उसे टिकट दे देती हैं। अगर कोई 3 करोड़ दे दे, तो उसे ही दे देंगी। आज उनका चरित्र #@&*% से भी ज्यादा खराब है।”

इस घटना के बाद पार्टी ने न केवल उन्हें उपाध्यक्ष पद से हटाया, बल्कि पार्टी से ही बर्खास्त कर दिया था।

वहीं, मायावती के खिलाफ दयाशंकर की पत्नी स्वाति सिंह के मोर्चा संभालने के बाद स्थिति में बदलाव देखने को मिल रहा है। पार्टी पर दबाव है कि दयाशंकर को वापस ले लिया जाए।

नसीमुद्दीन सिद्दीकी के काफिले पर पथराव

इस बीच, बसपा के राष्ट्रीय महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी के काफिले पर क्षत्रीय महासभा के कार्यकर्ताओं द्वार पथराव की खबर है। बताया गया है कि पथराव में आधा दर्जन से अधिक गाड़ि‍यों के शीशे टूट गए और कई बसपाइयों को चोट आई है।

इस मामले में पुलिस ने 8 लोगों को हिरासत में लिया है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement