कया आप वर्जिन हैं? नहीं…!! सॉरी, आप डांडिया नहीं खेल सकतीं!

author image
2:59 pm 18 Oct, 2018

Advertisement

हम मॉडर्न होने की बात करते हैं, लेकिन रूढ़िवादी सोच रखने वाले लोगों की भी यहां कोई कमी नहीं है। ऐसा ही रूढ़िवादी सोच का एक मामला पुणे के भाटनगर इलाके से सामने आया है। यहां एक महिला को डांडिया इवेंट में गरबा खेलने से सिर्फ़ इसलिए मना कर दिया गया क्योंकि उसने शादी के समय वर्जिनिटी टेस्ट की कुप्रथा का विरोध किया था।

 

23 साल की लॉ स्टूडेंट ऐश्वर्या तमायचीकर कंजारभाट समाज से आती हैं और उनके समाज में शादी से पहले वर्जिनिटी टेस्ट की परंपरा है। जब ऐश्वर्या ने अपना वर्जिनिटी टेस्ट कराने से मन किया तो उसके समाज ने उसका बहिष्कार कर दिया।

 

 

ऐश्वर्या का कहना है वर्जिनिटी टेस्ट का विरोध जताते हुए 12 मई 2018 को उसने दूसरे समाज के युवक के साथ शादी की। तभी से समाज के किसी भी कार्यक्रम में उन्हें शामिल नहीं किया जाता। अभी डांडिया इवेंट में भी उसे गरबा खेलने से रोक दिया गया।


Advertisement

अपने समाज का बहिष्कार झेल रही इस युवती का सब्र का बांध टूट गया और उसने पुलिस में इसकी शिकायत कर दी। पुलिस ने कंजारभाट समाज के 8 सदस्यों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

 

 

कंजारभाट समाज में सुहागरात के अगले दिन दुल्हन को अपनी वर्जिनिटी साबित करने का रिवाज है। महिला को साबित करना जरूरी है कि वो वर्जिन इससे पहले थी। इसके लिए बाकायदा पंचायत के सदस्य बेडशीट चेक करते हैं। अगर सदस्यों को उसमें सबूत नहीं मिलता, तो शादी अवैध करार दे दी जाती है।

देशभर में #MeToo मूवमेंट के बाद अब महाराष्ट्र में ‘स्टॉप द वी रिचुअल’ अभियान तेजी से उभरकर सामने आ रहा है। इसके ज़रिए लोग वर्जिनिटी टेस्ट का विरोध कर रहे हैं। इस अभियान से समाज में जारी ऐसी प्रथा को रोकना है जिसका कोई हाथ पैर नहीं है और जो सिर्फ़ महिलाओं के सम्मान को ठेस पहुंचाती हैं।

 

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement