ये कोई महल नहीं, बल्कि जेल है जिसमें रहता है सिर्फ़ एक कैदी

1:02 pm 29 Nov, 2018

Advertisement

भारत पुराने समय से ही दुनिया के लिए आकर्षण का केंद बना हुआ है। यहां एक जगह का अपना इतिहास और महत्व है। अगर हम भारत की यात्रा पर निकले तो शायद ही ऐसी कोई जगह हो जहां पर रहस्य ना हो। लेकिन आज हम आपको भारत की सैर नही करा रहे, बल्कि गुजरात के एक ऐसी रहस्यमय जगह के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके बारे में शायद आपने कभी सुना हो।

 

 


Advertisement

गुजरात राज्य के छोर पर अकसर पर्यटकों का आना जाना लगा रहता है। लेकिन समुद्र किनारे दीव नाम की जगह पर एक आलीशान किला नुमा बिल्डिंग बनी हुई है, जिसके अंदर जाने के लिए इंसानों को अनुमति नहीं है। लेकिन हैरान करने वाली बात ये है दिखने में ये आलीशान किला दरअसल एक जेल है, जो करीब 475 साल पुराना है।

 

 

दीव जेल को केंद्र शासित प्रदेश के रुप जाना जाता है। बात इसके इतिहास की करे तो एक ज़माने में ये जगह पुर्तगाल की कॉलोनी के भीतर आती थी। ये जेल देखने में जितनी बड़ी है उतनी ही भव्य भी। इससे भी कहीं ज़्यादा हैरान करने वाली बात ये है जेल में सिर्फ़ एक ही कैदी रहता है। जी हां, आपने सही सुना इतनी बड़ी जेल में सिर्फ़ एक ही कैदी है। 30 साल का दीपक कांजी इस आलीशान जेल में अकेला रहता है। उस पर अपनी पत्नी को ज़हर देकर मारने का आरोप है।

 

 



जेल में एक मात्र दीपक कांजी कैदी होने की वजह से उसकी सुरक्षा में महज़ 5 सिपाही और एक जेलर तैनात किया गया है।

 

 

2013 में दीव जेल के अंदर कैदियों को रखना बदं कर दिया गया था। मगर कुछ सालों पहले यहां 7 कैदी रहते थे। इन सात कैदियों में 2 महिलाएं भी थी। लेकिन बाद में किन्ही कारणों की वजह से 4 कैदियों को गुजरात की अमरेली जेल में भेज दिया गया। जबकि दो कैदियों की सजा की अवधि पूरी हो चुकी थी। इसी वजह से यहां सिर्फ़ कैदी दीपक कांजी ही रह रहा है।

 

 

दमन और दीव पर सरकार प्रत्येक कैदी पर 32 हज़ार रुपये खर्च करती है, जो बाकि जेलो के मुकाबले काफ़ी ज़्यादा है। कैदी दीपक को जेल में खाने से लेकर कुछ समय दूरदर्शन और आध्यात्मिक चैनल देखने की अनुमति दी गई है। साथ ही जेल में अखबार और मैगज़ीन के अलावा सुबह शाम सिपाहियों के साथ खुली हवा में टहलने की भी इजाज़त है।

 

भारत की एक जेल में रहता है सिर्फ एक कैदी- One Prisoner Confined In This Jail

‘bcmtouring’


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement