49 बल्लेबाजों को रन आउट कराने वाले इस खिलाड़ी की हुई टीम से छुट्टी

Updated on 29 Sep, 2018 at 11:56 am

Advertisement

क्रिकेट के बारे में प्रचलित है कि ये अनिश्चितताओं का खेल है, और ये वाकई सही बात है। मैदान पर खेलते हुए आप कब आउट हो जाएंगे ये कहा नहीं जा सकता। वहीं टीम में बनी रहने के लिए भी खिलाड़ियों को अलग से संघर्ष करना होता है। लिहाजा खेल में लगनशीलता और प्रतिभा दोनों ही जरूरी होता है। कभी-कभार किसी अन्य वजहों से भी खिलाड़ी को मैदान से बाहर कर दिया जाता है। श्रीलंका के इस खिलाड़ी के साथ कुछ अजीब सा हुआ है।

एंजेलो मैथ्यूज को टीम से भी बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है!

 

 

हाल ही में श्रीलंका के ऑलराउंडर एंजेलो मैथ्यूज को कप्तानी से  हाथ धोना पड़ा है। इसके बाद इन्हें इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में भी जगह नहीं दी गई है। टीम प्रबंधन का स्पष्ट कहना है कि मैथ्यूज विकेट्स के बीच सुस्ती से दौड़ते हैं, लिहाजा टीम को इससे नुकसान पहुंचता है। टीम के कोच चंडीका हथारूसिंघा की मानें तो मैथ्यूज साथी खिलाड़ी के साथ मेलजोल नहीं रख पाते हैं और अपनी मर्जी से दौड़ते हैं। ये अपनी हरकतों की वजह से खिलाड़ियों को रन आउट करा देते हैं।

 

 


Advertisement

हथारूसिंघा आगे बताते हैं:

“विकेट के बीच दौड़ना पूरी टीम के लिए एक चुनौती है। हम पूरी टीम को फिट देखना चाहते हैं। 2017 से मैथ्यूज का औसत 59 का रहा है और वे 64 रन आउट का हिस्सा रहे हैं। वो खुद 49 बार दूसरे को रनआउट कराया है, जो कि एक विश्व रिकॉर्ड बन गया है।”

 

 

मैथ्यूज दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली गई पांच मैचों की वनडे सीरीज में सर्वोच्च स्कोरर रहे थे। इस बात पर मुख्य चयनकर्ता लैबरॉय की राय है कि प्रदर्शन का तभी मतलब है जब हम सीरीज जीतें। दुर्भाग्यवश, श्रीलंका को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज में हार का सामना करना पड़ा था।

 

रन आउट होने का मसला ऐसा बढ़ गया कि यह एंजेलो मैथ्यूज ही नहीं, पूरी श्रीलंका टीम के लिए सिरदर्द बन गया है!

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement