Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

ऋतब्रत के बहाने मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी में वर्चस्व की लड़ाई

Published on 14 September, 2017 at 9:44 pm By

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी भारी उथल-पुथल के दौर से गुजर रही है। वर्ष 2011 में पश्चिम बंगाल की सत्ता से विदायी के बाद यह संभवतः पहला मौका है जब पार्टी में गुटबाजी चरम पर है और इसका कोई ओर-छोर नहीं दिख रहा। एक समय मार्क्सवादी राजनीतिक पटल पर नव नक्षत्र के तरह उदित ऋतब्रत बनर्जी को पार्टी से निकाल दिया गया है।


Advertisement

ऋतब्रत के निष्कासन की सिफारिश दरअसल जून महीने में ही की गई थी और इस मामले में पार्टी की केन्द्रीय समिति को अंतिम फैसला लेना था। अंततः पार्टी से उनकी विदायी तय तक दी गई। ऋतब्रत न सिर्फ राज्यसभा सांसद हैं, बल्कि वह 8 साल तक लगातार स्टूडेन्ट फेडरेशन ऑफ इन्डिया के अखिल भारतीय महासिचव रह चुके हैं।

क्या है मामला

ऋतब्रत बनर्जी इस साल के शुरू में तब चर्चा में आए थे, जब उनके लाइफ-स्टाइल को लेकर जवाब तलब किए गए। बनर्जी पर आरोप लगे कि वह महंगी घड़ी, महंगे पेन और स्मार्टफोन्स का उपयोग करते हैं। जबकि पार्टी की अपेक्षा रहती है कि इसके नेता लो-प्रोफाइल और जनता से जुड़े रहें। उन्हें इस मामले में पार्टी ने कारण बताओ नोटिस जारी किया था और मामले की तह तक जाने के लिए एक जांच कमेटी बना दी गई। जांच की रिपोर्ट आने तक उन्हें 90 दिनों के लिए निलंबित भी कर दिया गया। ऋतब्रत के जवाब से असंतुष्ट मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की राज्य कमेटी ने उनके निष्कासन की सिफारिश केन्द्रीय कमेटी को कर दी। यह मामला दबा हुआ था, कि तभी ऋतब्रत ने बांग्ला टीवी चैनल एबीपी आनंद पर प्रसारित अपने साक्षात्कार में पार्टी पर कई गंभीर आरोप लगाए। उनका कहना था कि मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी का नेतृत्व बंगालियों के खिलाफ है। उनका आरोप है कि पोलित ब्यूरो में मुसलमानों के लिए कोटा है और मोहम्मद सलीम इसी कोटे का लाभ उठाते हुए पोलित ब्यूरो में बने हुए हैं। साथ ही उन्होंने अपने खिलाफ जांच के लिए बनाई गई कमेटी को कंगारू आयोग की संज्ञा दे दी। गौरतलब है कि इस कमेटी की अध्यक्षता मोहम्मद सलीम कर रहे थे।

साक्षात्कार में ऋतब्रत ने कहाः



“मेरा मानना ​​है कि कम्युनिस्ट पार्टी जिसका उद्देश्य समाज को बदलने का है, उसके पोलितब्यूरो कोटा कैसे हो सकता है? यदि आप मुस्लिम हैं, तो आप पात्र हैं यदि आप एक महिला हैं, तो आप पात्र है।. क्या ये स्वीकार्य है एक कम्युनिस्ट पार्टी में? वह अपने धर्म के कारण एक पोलित ब्यूरो सदस्य बन गए हैं। मेरा मानना ​​है कि अगर उस समय पोलित ब्यूरो के सदस्य होने के हकदार थे, तो गौतम देव थे।”

यह बहुचर्चित साक्षात्कार आप यहां देख सकते हैं।

इससे पहले इंडियन एक्सप्रेस को दिए गए एक साक्षात्कार में ऋतब्रत ने कहा था कि उनकी लड़ाई पार्टी के खिलाफ नहीं, बल्कि कहा था कि उनकी लड़ाई खिलाफ नहीं, बल्कि प्रकाश और वृंदा करात के खिलाफ है।

पार्टी में वर्चस्व की लड़ाई


Advertisement

राजनीतिक जानकार मानते हैं कि ऋतब्रत बनर्जी के बहाने मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी में बर्चस्व की लड़ाई चल रही है। पार्टी दो भागों में बंटी हुई है, जिसमें एक गुट का नेतृत्व प्रकाश करात कर रहे हैं, तो दूसरे का नेतृत्व सीताराम येचुरी के हाथ है। येचुरी को माकपा की पश्चिम बंगाल ईकाई का साथ हमेशा मिला है, वहीं केरल प्रकाश करात के साथ खड़ा रहता है। हालांकि, इस बार समीकरण बदले दिख रहे हैं। ऋतब्रत प्रकरण से साफ है कि पश्चिम बंगाल में मोहम्मद सलीम सरीखे वरिष्ठ मार्क्सवादी नेता अब प्रकाश करात के खेमे में हैं। ऋतब्रत बनर्जी सीताराम येचुरी के करीबी थे और उनका पार्टी से निष्कासित होना येचुरी की शिकस्त के तौर पर देखा जा रहा है।

Advertisement

नई कहानियां

कभी फ़ुटपाथ पर सोता था ये शख्स, आज डिज़ाइन करता है नेताओं के कपड़े

कभी फ़ुटपाथ पर सोता था ये शख्स, आज डिज़ाइन करता है नेताओं के कपड़े


किसी प्रेरणा से कम नहीं है मोटिवेशनल स्पीकर संदीप माहेश्वरी की कहानी

किसी प्रेरणा से कम नहीं है मोटिवेशनल स्पीकर संदीप माहेश्वरी की कहानी


इस फ़िल्ममेकर के साथ काम करने को बेताब हैं तब्बू, कहा अभिनेत्री न सही, असिस्टेंट ही बना लो

इस फ़िल्ममेकर के साथ काम करने को बेताब हैं तब्बू, कहा अभिनेत्री न सही, असिस्टेंट ही बना लो


इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा

इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा


मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया

मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें News

नेट पर पॉप्युलर