खुशखबरीः भारत में आई है भ्रष्टाचार में कमी, अब 76वें स्थान पर

author image
9:25 pm 29 Jan, 2016

Advertisement

भ्रष्टाचार एक ऐसी सामाजिक बुराई बनकर उभरी है, जिससे कोई देश अछूता नहीं है। हालांकि, सुकून की बात यह है कि इस मामले में भारत में सुधार हो रहा है। अंतरराष्ट्रीय संस्था ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल की सूची में वर्ष 2013 में 94वें पायदान पर रहने वाला भारत वर्ष 2015 में 76वें पायदान पर आ गया है।

इस संस्था द्वारा जारी ‘करप्शन परसेप्शन इंडेक्स-2015’ में किसी भी देश की स्थिति उसके सार्वजानिक और सरकारी क्षेत्र में परिपूर्ण भ्रष्टाचार के आधार पर मापी गई है।


Advertisement

इस इंडेक्स में भारत ने 38 अंकों के साथ सुधार किया है। 76वें पायदान पर रहने वाले भारत की स्थिति रूस और चीन से बेहतर है। मोदी सरकार के लिए यह उपलब्धि की बात है कि पिछले वर्षों की तुलना में भारत में भ्रष्टाचार की गतिविधियों में कमी आई है।

रूस 29 अंकों के साथ 119वें पायदान पर है, तो वहीं चीन 37 अंकों के साथ 83वें स्थान पर है। 168 देशों पर आधारित इस सूची में भ्रष्टाचार को खत्म करने के मामले में सबसे बेहतर प्रदर्शन डेनमार्क का रहा। इस इंडेक्स में डेनमार्क लगातार दूसरे साल भी शीर्ष पर रहा। तो वहीं सबसे भ्रष्ट देशों में सोमालिया और उत्तर कोरिया हैं।

बर्लिन स्थित इस संस्था के मुताबिक दुनिया भर के 68 प्रतिशत देशों में भ्रष्टाचार की समस्या घर कर रही है। इस संस्था के द्वारा पेश की गई इस रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया का कोई एक देश भी इस सामाजिक बुराई से अछूता नहीं है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement