अब नशे के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं कोबरा का जहर, फ्रान्स से जुड़े हैं तार

author image
Updated on 25 Jan, 2017 at 2:47 pm

Advertisement

बिहार में शराबबंदी के बाद अब नशे कारोबार चरम पर है। यहां के नशेरी अब नशे के लिए कोबरा के जहर का इस्तेमाल कर रहे हैं। माना जा रहा है कि बिहार में नशे का कारोबार तेजी से अपने पैर जमा रहा है। साथ ही नशे के इस कारोबार के तार दिल्ली से जुड़े हैं।

खुफिया राजस्व निदेशालय (डीआरआइ) की टीम पुर्णिया से नशे का सबसे महंगा ड्रग्स माने जाने वाले ‘कोबरा स्नेक वेनम’ के साथ दो लोगों को गिरफ्तार किया है। करीब 950 ग्राम की मात्रा में इस ड्रग्स की कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में 20 करोड़ रुपए से अधिक है।

बताया गया है कि पूर्वी भारत के किसी राज्य में इस ड्रग्स की इतनी बड़ी मात्रा में पकड़े जाने का यह पहला मामला है। ड्रग्स की यह खेप फ्रान्स से बांग्लादेश से होते हुए भारत लाई जा रही थी। इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि इस सिन्डिकेट का सरगना मोहम्मद जब्बार नामक एक बांग्लादेशी नागरिक बताया जाता है।



इन सैम्पल्स को पटना की दो प्रयोगशालाओं में भेजा गया है। दोनों ही प्रयोगशालाओं ने इस ड्रग की पहचान कोबरा स्नेक वेनम की रूप में की है। जांच में पता चला कि इस ड्रग्स का निर्माण फ्रान्स में किया गया है। इसकी कंपनी का नाम ‘रेड ड्रैगन’ है। यह बरामद ड्रग्स भारत में वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट, 1972 के तहत भी प्रतिबंधित है।

गौरतलब है कि भारत में कोबरा सांप विलुप्त वन्यजीव में शामिल है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement