चीन में दुल्हनों की कमी, लड़के निकल रहे हैं वाइफ टूर पर

Updated on 26 Jan, 2018 at 11:53 am

Advertisement

दुनिया की सबसे अधिक जनसंख्या चीन में निवास करती है। अत्यधिक जनसंख्या से परेशानहाल चीन इस पर काबू करने के लिए लंबे समय से कैम्पेन चला रहा है। लिहाजा सफलता भी हासिल हुई है। चीन को इसके साथ ही सामाजिक असमानता के खिलाफ भी लड़ाई लड़नी पड़ रही है। जनसंख्या नियंत्रण के संदर्भ में चीन की एक बच्चा नीति बेहद कारगर रही है। हालांकि, यही वजह है कि यहां लड़कियों की संख्या काफी कम हो गई है।

चीन में हर 100 महिलाओं पर 120 पुरुष हैं। जाहिर है वहां करोड़ों पुरुषों के लिए महिलाएं नहीं हैं। लड़कों को दुल्हन मिलना मुश्किल हो रहा है और वे इसके लिए एजेंसियों के पास जा रहे हैं। यहां शादी बकायदा एक कारोबार बन गया है और इसके लिए मुफीद वातावरण भी है। यहां ऐसे मैरिज ब्यूरो हैं जो न केवल चीन में बल्कि दूसरे देशों में भी लड़कों के लिए दुल्हन की तलाश कर रहे हैं।

चीन की स्थिति से उलट रूस में हर 100 महिला पर सिर्फ 85 पुरुष हैं। लिहाजा वहां दुल्हनें हैं, जो खूबसूरत भी हैं। यही वजह है कि रूस का साइबेरिया इलाका मैरिज हब बनता जा रहा है। लड़कियों की कमी से जूझ रहे चीन के दौलतमंद बिजनेसमैन शादी के लिए साइबेरिया जाना पसंद करते हैं। अब साइबेरिया वाइफ पैराडाइज भी कहा जाने लगा है।


Advertisement

साइबेरिया ब्राइड डॉटकॉम जैसी कई एजेंसियां चीनी लड़कों को वहां ‘वाइफ टूर’ पर ले जाती हैं। साइबेरिया की सर्द जमीन पर शादी के लिए कई लीगल मैरिज एजेंसियां काम कर रही हैं, जो दूसरे देश से आने वाले लड़कों को उनकी पसंद की लड़कियों से मिलाते हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया हैः



“यहां बड़े-बड़े बिजनेसमैन पहुंचते हैं और मैरिज एजेंसियों को लाखों रुपयों का पैमेंट कर साइबेरिया की दुल्हन ले जाते हैं। हालांकि, ज्यादातर रशियन लड़कियां अपने देश में ही शादी करने की इच्छा रखती हैं, लिहाजा लड़कों को मुश्किलें आती हैं। चूंकि साइबेरिया सर्द इलाका है, वहां की लड़कियां शादी करके दूसरे देशों के गर्म इलाकों में रहना पसंद ही नहीं करतीं।”

मैरिज एजेंसी ओसीडी सेंटर के हेड एलेना सुवोरोवा के अनुसार: “चीनी लड़कों के लिए रूसी महिला किसी तोहफे की तरह हैं।” साइबेरियन टाइम्स की मानें तो चीन के लोग महिलाओं के साथ बहुत सम्मान के साथ पेश आते हैं। वहीं,
मैचमेकर्स ने भी चीनी लड़कों के बर्ताव की तारीफ की है।

लिंगानुपात के मामले में अब भारत की स्थिति भी कुछ अच्छी नहीं है। शादी नहीं हुई हो तो आप भी साइबेरिया जाकर घूम आ सकते हैं। रब का क्या पता, आपकी जोड़ी साइबेरिया में ही मिले!


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement