यह है चीन का सबसे बड़ा ट्रान्सपोर्ट एयरक्राफ्ट, सेना में किया गया शामिल

author image
Updated on 8 Jul, 2016 at 6:26 pm

Advertisement

चीन ने अपने सबसे बड़े ट्रान्सपोर्ट एयरक्राफ्ट जियान Y-20 को सेना में शामिल कर लिया है। भारतीय बोईंग C-17 ग्लोबमास्टर की टक्कर का यह कार्गो विमान अधिकतम 200 टन वजन लेकर हवा में उड़ सकता है।

करीब 47 मीटर लंबे जियान Y-20 के सेना में शामिल कर लिए जाने से चीन की सामरिक क्षमता में बढ़ोत्तरी होगी।

जियान Y-20 की खासयित यह है कि यह विमान खराब मौसम में भी सेना के साजो-सामान को दुनिया के किसी भी कोने तक पहुंचा सकता है।

चीन ने इस विमान को नाम दिया है- ‘चबी गर्ल’।


Advertisement

पिछले 10 साल में चीन ने आठ जियान Y-20 विमान का निर्माण किया है। माना जा रहा है कि अगले कुछ साल में करीब दर्जनभर Y-20 विमान चीन की सेना में शामिल किए जाएंगे। इसी बीच, चीन बड़े पैमाने पर इस विमान का उत्पादन करने पर विचार कर रहा है।

यह है भारतीय वायुसेना का ग्लोबमास्टर।

खास बात यह है कि रूसी इंजन से लैस इस विमान का निर्माण चीन ने अपने ही देश में किया है।

जियान Y-20 में एक साथ ही टाइप 99 टैंक, सैनिक और अन्य साजो-सामान ढोए जा सकते हैं। टाइप 99 टैंक चीन का सबसे उन्नत टैंक है, जिसका वजन करीब 50 टन है।

बोईंग C-17 ग्लोबमास्टर जैसी खूबियों से लैस है जियान Y-20।

यह विमान सैन्य साजो-सामान लेकर 7800 किलोमीटर तक की दूरी तय कर सकता है।

इस विमान के सफलतापूर्वक निर्माण के बाद इस तरह का विमान बनाने वाला चीन तीसरा देश बन गया है। इससे पहले अमेरिका और रूस ही इन विमानों का निर्माण कर रहे थे।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement